मंत्री के निरीक्षण के बाद एक्शन, तीन कर्मचारी सस्पेंड, BMO और ड्यूटी डॉक्टर को नोटिस

सागर जिले के गढ़ाकोटा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर रात ढाई बजे स्कूटी से पहुंचे थे मंत्री, निरीक्षण के दौरान मौके पर डॉक्टर, कंपाउंडर, नर्स और चौकीदार भी नहीं मिला

Gopal Bhargav Hospital

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट | चुनावी माहौल में शिवराज सरकार (Shivraj Government) के ही एक मंत्री ने जब आधी रात को अस्पताल पहुंचकर स्वास्थ्य व्यवस्थाओं का खुलासा किया तो यह मामला सियासी हो गया| कांग्रेस (Congress) ने मुद्दे को लपकते हुए सरकार पर चौतरफा हमला बोलना शुरू कर दिया| इधर, मंत्री के निरीक्षण के बाद एक्शन भी हुआ है| सीएमएचओ (CMHO) ने गढ़ाकोटा अस्पताल (Garhakota Hospital) के तीन कर्मचारी को निलंबित कर दिया है। वहीं बीएमओ और ड्यूटी डॉक्टर को नोटिस जारी किया है।

दरअसल, भाजपा के वरिष्ठ नेता व शिवराज सरकार में पीडब्ल्यूडी मंत्री गोपाल भार्गव (Minister Gopal Bhargav) गुरुवार आधी रात को स्कूटी चलाकर सागर जिले के गढ़ाकोटा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में पहुंच गए। औचक निरीक्षण के दौरान उन्होंने पाया कि अस्पताल में न तो कोई डाक्टर ड्यूटी पर था, न नर्स और न ही कोई स्वास्थ्य कर्मचारी था। गोपाल भार्गव पूरे अस्पताल में आवाज लगाते रहे, लेकिन कोई कर्मचारी नहीं नजर आया। गोपाल भार्गव ने खुद इस स्टिंग का वीडियो फेसबुक पर शेयर किया और कहा कि मुझे शिकायत प्राप्त हो रही थी कि गढ़ाकोटा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में मरीजों को घंटों प्रतीक्षा करनी पड़ती है लेकिन कोई भी डॉक्टर या कर्मचारी उन्हें नहीं मिलते, जिसके बाद रात्रि में 2:30 बजे मैंने औचक निरीक्षण किया मेरे साथ में गढ़ाकोटा नगर के कुछ आमजन भी मौजूद थे| मैंने पूरी अस्पताल का भ्रमण किया जोर जोर से आवाज भी लगाई, लेकिन कोई भी डॉक्टर, कंपाउंडर, नर्स या पैरामेडिकल स्टाफ यहाँ तक कि चोकीदार भी अस्पताल में उपस्थित नहीं मिला।

कमलनाथ ने कसा तंज, भार्गव ने किया पलटवार
इधर, स्वास्थ्य व्यवस्था को लेकर उठ रहे सवालों के बीच मंत्री के निरीक्षण के मामले को कांग्रेस ने मुद्दा बना लिया| पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने तंज कसते हुए कहा है कि कभी-कभी गलती से यह लोग सही बात बोल देते हैं। शिवराज सिंह जी कब तक झूठ बोलते रहेंगे। इस पर गोपाल भार्गव ने कहा कि जनप्रतिनिधि को अपनी क्षेत्र की जनता के लिए एक पालक और रक्षक के रूप में कार्य करना प्रमुख दायित्व होता है। उसके क्षेत्र में जनता को मिलने वाली सुविधाएं उन्हें निर्बाध रूप से मिले उसके लिए जनप्रतिनिधि इन व्यवस्थाओं में ओर बेहतर सुधार के लिए औचक निरीक्षण भी करें तो उसे राजनीतिक मुद्दा नही बनाना चाहिए। मेरे द्वारा अस्पताल के निरीक्षण को लेकर कांग्रेस गैरजिम्मेदाराना तरीके से राजनीति कर रही है वह दुर्भाग्यपूर्ण है।

बीएमओ और ड्यूटी डॉक्टर को नोटिस, तीन कर्मचारी सस्पेंड
मंत्री गोपाल भार्गव के निरीक्षण के बाद स्वास्थ्य विभाग भी हरकत में आया है। CMHO ने गढ़ाकोटा अस्पताल के तीन कर्मचारी को निलंबित कर दिया है। वहीं बीएमओ और ड्यूटी डॉक्टर को नोटिस जारी किया है। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ एमएस सागर ने कहा कि BMO और डॉक्टर के जवाब आने के बाद यदि अनुपस्थिति का उचित कारण सामने नहीं आया तो इनके खिलाफ भी कड़ी कार्यवाही की जाएगी।

Gopal Bhargava यांनी वर पोस्ट केले गुरुवार, १ ऑक्टोबर, २०२०