कमलनाथ से चर्चा के बाद नूरी खान ने वापस लिया इस्तीफा, बदले सुर और तेवर….

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। उज्जैन में कांग्रेस की तेज तर्रार कांग्रेस नेता और प्रवक्ता नूरी खान ने रविवार शाम पार्टी से इस्तीफा दे दिया लेकिन फिर कुछ देर बाद ही उन्होंने अपना इस्तीफा वापस ले लिया, हालांकि इस्तीफा देने और वापस लेने की पोस्ट उन्होंने अपने फेसबूक अकाउंट पर भी पोस्ट की, देर शाम नूरी खान ने पार्टी के सभी पदों को भी छोड़ने की बात कही। नूरी खान ने कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ को पत्र लिखकर इसे सोशल मीडिया पर भी अपलोड कर दिया।

नूरी का दर्द, मुस्लिम हूँ, अध्यक्ष नही बन सकती हूँ, इसलिए दिया पार्टी से इस्तीफा

नूरी खान ने पार्टी पर अल्पसंख्यकों की उपेक्षा का आरोप लगाया है। उन्होंने इस्तीफे में कहा कि कांग्रेस पार्टी की विचारधारा अल्पसंख्यक वर्ग के प्रति भेदभाव पूर्ण है। उन्होंने कमलनाथ के माध्यम से पार्टी पर सवाल भी दागा कि प्रदेश के कितने जिलों में जिला कांग्रेस कमेटी में कितने अध्यक्ष अल्पसंख्यक वर्ग से हैं। लेकिन इसके कुछ देर बाद ही नूरी खान ने फिर एक बार अपने एफबी अकाउंट पर अपने इस्तीफे को वापस लेने की पोस्ट डाली, जिसमें नूरी खान ने लिखा कि प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ से चर्चा के बाद विश्वास के साथ मै अपना इस्तीफा वापस ले रही हूँ, हालांकि इस्तीफा देने और लेने के कुछ घंटों के दरमियान ही जमकर भाजपा नेताओं के पोस्ट इस इस्तीफे को लेकर सामने आए और सोशल मीडिया पर भी देर तक इस्तीफा सुर्खियों में छाया रहा, भले ही नूरी खान ने अपना इस्तीफा वापस ले लिया मगर इस दौरान उन्होंने अपने एफबी पोस्ट पर जो बाते पार्टी को लेकर लिखी अपना जो दर्द बयां किया वह सवाल खड़े कर गया।

कमलनाथ से चर्चा के बाद नूरी खान ने वापस लिया इस्तीफा, बदले सुर और तेवर....