-After-Makar-Sankranti-festival-will-start-fast-cold-in-madhya-pradesh

भोपाल| मकर संक्रांति से सर्दी कम होने का भ्रम अभी से न पालें। क्यूंकि अभी लोगों को ठण्ड के सर्द तेवरों का सामना करना पड़ेगा| जम्मू-कश्मीर और हिमाचल में हो रही बर्फबारी का एक बार फिर असर शुरू हो गया है| दो दिनों की हलकी राहत के बाद एक बार फिर कड़ाके की सर्दी का दौर शुरू हो सकता है| सोमवार से हवाओं का रुख बदलने से एक बार फिर कंपाने वाली सर्दी शुरू होगी| 

मौसम विभाग का अनुमान हो कि, इस साल मकर संक्रांति के बाद भी लोगों को तीखी ठंड का सामना करना पड़ेगा। यानि प्रदेश में ठंड का जौर इस बार मकर संक्रांति के बाद भी जारी रहेगा। प्रदेश में इससे 6 साल पहले मकर संक्रांति के बाद भी ठंड का सिलसिला जारी रहा था। मौसम विभाग से मिली जानकारी के अनुसार एक दो दिन बाद उत्तरी हवा एक बार फिर पारे को गिराएगी। प्रति चक्रवात के कारण शनिवार को पूर्वी और दक्षिण पूर्वी हवा चलने से रात के तापमान में जरूर थोड़ा सा इजाफा हुआ है। 

अभी हवाओं का रुख उत्तरी बना हुआ है। इसके कारण ही बर्फीली हवाएं प्रदेश ठंड बढ़ाए हुए हैं। ठण्ड ने इस बार नए रिकॉर्ड बनाये हैं|  6 साल बाद नए साल का दिन बेहद ठंडा रहा। इसके पहले साल 2013 में प्रदेश में इतनी ��ंड देखने को मिली थी। उस साल करीब 10 दिनों तक औसत तापमान 7.6 रहा था। वहीं इस साल शुरु के 10 दिन का औसत न्यूनतम तापमान 8.3 डिग्री पर स्थिर रह चुका है।  भोपाल में शनिवार को दिन का तापमान 25.1 डिग्री दर्ज किया गया। इसमें 1.3 डिग्री का इजाफा हुआ। यह सामान्य रहा। दिन में हल्की धूप निकली, लेकिन शाम चार बजे तक ठंडी हवा नहीं चली। शुक्रवार को दिन का तापमान 23.8 डिग्री दर्ज किया गया था। रात का तापमान 10.1 डिग्री दर्ज किया गया।  वहीं रविवार को दिन में धूप रही और सामान्य ठण्ड रही| सोमवार से मौसम में बदलाव देखने को मिलेगा| शीत लहर के कारण मध्य प्रदेश के 16 जिलों में तापमान 7 डिग्री से नीचे चल रहा है। शनिवार को खजुराहो, पचमढ़ी, बैतूल और नौगांव का तापमान 3 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहा, जिससे इलाके के लोगों को खासा परेशान किया। बता दें कि, इन इलाकों में तापमान सामान्य से 7 डिग्री सेल्सियस कम दर्ज किया गया।

6 सालों में 1 से 10 जनवरी तक यह रहा न्यूनतम तापमान

-2013- 7.6 डिग्री

-2014- 13.2 डिग्री

-2015- 10.1 डिग्री

-2016- 12.4 डिग्री

-2017- 11 डिग्री

-2018- 9.9 डिग्री

-2019- 8.3 डिग्री