गुजरात-हिमाचल के नतीजों के बाद एक बार फिर उठा पुरानी पेंशन का मुद्दा

Employees Old Pension Scheme : पंजाब झारखंड और छत्तीसगढ़ सहित राजस्थान में पुरानी पेंशन योजना को लागू कर दिया गया है। इसके बाद कई राज्यों में सरकारी कर्मचारियों द्वारा पुरानी पेंशन योजना लागू करने की मांग जोर पकड़ने लगी है। अब हिमाचल प्रदेश चुनाव के नतीजे आने के बाद एक बार फिर मध्यप्रदेश में पुरानी पेंशन योजना लागू करने की मांग जोर पकड़ने लगी है।

नेशनल मूवमेंट फॉर ओल्ड पेंशन स्कीम भारत (NMOPS-MP) ने कहा है कि हिमाचल में किसी की भी सरकार बने लेकिन हम सभी का मुद्दा पुरानी पेंशन जीत गया है। OPS जीत गया है। राज्य मीडिया प्रभारी एच एन नरवरिया ने कहा कि ‘जब 2018 में हम सभी ने राष्ट्रीय अध्यक्ष विजय बन्धुजी के नेतृत्व मे NMOPS संगठन द्वारा पुरानी पेंशन आन्दोलन की वृहद शुरुआत की थी तब लोग कहते थे कि ये लोग पागल हो गए हैं, ये OPS क्या है। OPS का नाम कोई नहीं ले रहा था लेकिन आज देश के प्रमुख टीवी चैनलो पर बड़े बड़े राजनीतिक दल के प्रवक्ता बार बार OPS का नाम ले रहे हैं तो बहुत सुकून मिल रहा है। अभी 4 राज्यों (राजस्थान, छत्तीसगढ़, झारखंड, पंजाब) मे पेंशन बहाल हुई, हिमाचल 5वां राज्य बनेगा। 2-3 राज्यों जैसे बिहार तमिलनाडु आंध्रप्रदेश पुरानी बहाली के लाइन में है और 2024 के पहले देशभर पुरानी पेंशन अवश्य बहाल होगी।’ एच एन नरवरिया ने अपील की कि पुरानी पेंशन बहाल करने को लेकर जो आंदोलन हो रहे हैं, उसमें सभी मिलकर हिस्सा लें ताकि मध्यप्रदेश में होने वाले आगामी चुनाव में भी ये एक अहम मुद्दे के रूप में उभरे।