‘वंदेमातरम्’ के बाद अब ‘मध्यप्रदेश गान’ को बंद करने की तैयारी में कमलनाथ सरकार!

After-the-'Vande-Mataram'

भोपाल

नई सरकार अपने नए नए फैसलों को लेकर चर्चा में बनी हुई है। अभी वंदेमातरम् को लेकर सियासी बवाल थमा ही था कि अब मध्यप्रदेश गान को लेकर विवाद छिड़ गया है। कमलनाथ सरकार के मंत्री ने अब मध्यप्रदेश गान पर रोक लगाने की बात कही है। उन्होंने कहा है कि इस गान में मध्यप्रदेश से ज्यादा शिवराज का गुणगान किया जा रहा है, इसलिए इसे बंद किया जाना चाहिए।मंत्री के इस बयान के बाद प्रदेश की राजनीति में फिर ह़ड़कंप मच गया है। वही भाजपा ने इसको लेकर कमलनाथ सरकार पर हमले बोलने शुरु कर दिया है।

दरअसल,कमलनाथ सरकार में राजस्व और परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत ने मध्यप्रदेश गान बंद करने की मांग की है। उनका मानना है कि मध्यप्रदेश गान में जानबूझकर कई जगह शिव का नाम लिया गया है, जो भगवान शिव का नहीं, बल्कि शिवराज के लिए है। मध्यप्रदेश गान में बदलाव होना चाहिए। मध्यप्रदेश गान ऐसा हो, जिसमें पूरे मध्यप्रदेश की झलक दिखाई दे, किसी पार्टी या किसी व्यक्ति का गुणगान न हो। 

बताते चले कि मध्य प्रदेश गान “सुख का दाता सबका साथी शुभ का यह सन्देश है, माँ की गोद पिता का आश्रय मेरा मध्यप्रदेश है ” के रचयिता महेश श्रीवास्तव हैं, जो कि एक वरिष्ठ पत्रकार हैं ।  इस गाने को हिंदी फ़िल्म जगत के जाने माने पार्श्व गायक  शान ने गाया है और इसे सुनील झा ने लयबद्ध किया है। पहली बार ये गाना 2010 में  गाया गया था। बीजेपी की शिवराज सरकार ने अपने कार्यकाल में मध्यप्रदेश गान तैयार कराया था, जिसे सभी शासकीय कार्यक्रम में गाया जाना अनिवार्य किया गया था। इसके पीछे सरकार का तर्क था कि इससे लोगों में मध्यप्रदेश को लेकर अपनत्व का भाव पैदा होगा।