फिर चलेगा मिलावट के खिलाफ अभियान, कलेक्टर ने दिए ये निर्देश

भोपाल। सीएम हेल्पलाईन, जनसुनवाई और प्रभारी मंत्री के लंबित आवेदनों का तत्काल निराकरण करें तथा आवेदक को यह बतायें कि काम हुआ और यदि नहीं हो सकता है तो उसके बारे में भी स्पष्ट करें। कोलांस नदी के आस-पास के क्षेत्रों में जैविक खेती के लिए किसानों को प्रोत्साहित करने के लिए कार्यशाला आयोजित करें। ये निर्देश सोमवार को समय-सीमा (टीएल) बैठक में कलेक्टर ने सभी अधिकारियों को दिए। उन्होंने कहा कि जैविक खेती के उपयोग से तालाब में कचरा और पेस्टीसाइट्स को मिलने से रोका जा सकेगा। बैठक में सीईओ जिला पंचायत सतीश कुमार एस, अपर कलेक्टर श्रीमती वंदना शर्मा सहित सभी विभागों के अधिकारी मौजूद थे।

बंद पड़ी नलों को तत्काल चालू कराएं

बैठक में कलेक्टर ने कार्यपालन यंत्री पीएचई को निर्देश दिए कि बंद पड़ी नल जल योजना की समस्या का शीघ्र समाधान किया जाये। नल, जल योजना का लाभ आमजनों तक पहुंचे, इसके लिए वे तत्काल इसे चालू करवायें। एयर क्वालिटी इंडेक्स के सुधार के लिये सख्ती से पराली और अलाव में रबड़, टायर, ट्यूब आयल और डामर जलाने पर कार्यवाही कर दंड अधिरोपित करें। आगामी दिवसों में प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा एयर क्वालिटी इंडेक्स के संबंध में बैठक में संबंधित अधिकारियों को उपस्थित होने के निर्देश दिए। कलेक्टर पिथोड़े ने बैठक में सभी अधिकारियों को 15 दिसम्बर से मिलावट के विरूद्ध जन जागरूकता पैदल मार्च कार्यक्रम में शामिल होने के निर्देश भी दिए।