भोपाल। मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ (Kamalnath) की मुश्किलें बढ़ गई है| आरोप है कि पिछले दिनों छिंदवाड़ा (Chhindwara) में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में पत्रकारों के सवालों के जवाब देते हुए उनके द्वारा अनुसूचित जाति के लिए अपमानजनक शब्दों का प्रयोग किया गया| कमलनाथ के खिलाफ कार्रवाई के लिए प्रदेश के कृषिमंत्री कमल पटेल (Kamal Patel) ने डीजीपी (DGP) को पत्र लिखा है| इससे पहले छिंदवाड़ा में भाजपा जिला अध्यक्ष विवेक बंटी साहू एसपी को ज्ञापन सौंप कर कार्रवाई की मांग कर चुके हैं|

कृषि मंत्री पटेल ने पत्र में कहा कि जिले में सिंचाई विभाग में हुए करोड़ों के घोटाले के संबंध में 27 मई को छिंदवाड़ा में पत्रकार वार्ता के दौरान पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ से मीडिया के द्वारा उक्त घोटाले के संबंध में सवाल किए जाने पर कमलनाथ के द्वारा दिए गए जवाब में अनुसूचित जाति के लिए अपमानजनक शब्दों का प्रयोग किया गया| उन्होंने आगे लिखा कमलनाथ के द्वारा अनुसूचित जाति के प्रति की गई अपमानजनक टिप्पणी से प्रदेश के समस्त अनुसूचित जाति वर्ग के सम्मान को ठेस पहुंची है|

उन्होंने लिखा जिले के अनुसूचित जाति वर्ग के द्वारा पुलिस अधीक्षक छिंदवाड़ा तथा अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अनुसूचित जाति अनुसूचित जनजाति तथा छिंदवाड़ा थाने को कमलनाथ के विरुद्ध कार्रवाई के लिए आवेदन दिए गए हैं| उनकी प्रति भी मंत्री ने पत्र के साथ सलग्न की है| उन्होंने कहा है कि पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ द्वारा की गई अनुसूचित जाति समाज के प्रति अपमानजनक टिप्पणी के लिए उनके विरुद्ध नियमानुसार जांच कर एफ आई आर दर्ज करवाते हुए आवश्यक कार्रवाई की जाए|

कमलनाथ के खिलाफ FIR के लिए कृषिमंत्री ने DGP को लिखी 'चिट्ठी'