MP ELECTION : पिता के भरोसे पर खरे उतरे ‘आकाश’, पहला चुनाव 7 हजार वोटों से जीता

Akash-won-mp-assembly-election-in-indore-3-vidhansabha-seat

इंदौर।

मध्य प्रदेश में मतगणना अपने अंतिम पड़ाव पर आ चुकी है। थोड़ी देर में साफ हो जाएगा कि किसे बहुमत मिला और किसकी सरकार बनेगी। इसी बीच इंदौर की सबसे हाईप्रोफाइल सीट मानी जाने वाली इंदौर-तीन के भी परिणाम सामने आ गए है। यहां कैलाश विजयवर्गीय के बेटे और भाजपा प्रत्याशी आकाश विजयवर्गीय जीत गए है। उन्होने कांग्रेस के अश्विन जोशी को  रुझान आने के साथ ही गहमागहमी तेज हो गई है। इंदौर की सबसे चर्चित सीट इंदौर-3 में 7000 से हराया है। शुरुआती रुझानों में आकाश पीछे चल रहे थे, लेकिन बाद में धीरे धीरे आगे बढ़ते चले गए और जीत हासिल की।

बता दे कि इंदौर-3 विधानसभा क्षेत्र में 187213 मतदाताओं ने अपने मतों का इस्तेमाल किया है जिसमें पुरुष मतदाताओं की संख्या 95159 तो महिला मतदाताओं की संख्या 92022 थी।

हालांकि नतीजों से पहले ही आकाश की जीत लगभग तय मानी जा रही थी। चुंकी वे बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव और वरिष्ठ नेता कैलाश विजयवर्गीय के बेटे है। यहां कैलाश का अच्छा वर्चस्व है, जिसका फायदा आकाश को मिलना तय था।कैलाश शुरु से ही अपनी बेटे की जीत का दावा कर रहे थे। वर्तमान में इस सीट पर उषा ठाकुर विधायक है, विजयवर्गीय के कहने पर उनकी सीट बदली गई थी और उन्हें भाजपा की परंपरागत सीट महू से मैदान में उतारा गया। पिछले चुनाव में उषा ठाकुर ने कांग्रेस के अश्विन जोशी को 13318 वोटों के अंतर से हराया था।हालांकि आकाश इतना आकंड़ा पार नही कर पाए लेकिन पिता की साख बचाते हुए इस सीट पर जीत हासिल क कर ही ली।आकाश ने इस जीत के लिए इंदौर की जनता का धन्यवाद किया ।

मतगणना से पहले हुआ था विवाद

इसके पहले आज सुबह मतगणना के दौरान आरओ के सामने उम्मीदवारों के प्रतिनिधि बैठने से विवाद हो गया था। राजनीतिक प्रतिनिधियों ने कलेक्टर के समक्ष आपत्ति जताई थी । इस दौरान इंदौर डाक मतपत्र को लेकर कलेक्टर और कांग्रेस नेताओं में विवाद हो गया। यहां काफी देर तक गहमागहमी रही। हालांकि बाद में सबकों शांत किया गया।

अधूरा रह गया कैलाश का सपना

आकाश भले ही इंदौर तीन से जीत गए हो लेकिन वे अपने पिता कैलाश का सपना पूरा नही कर पाए। दरअसल, बीते दिनों मीडिया से चर्चा के दौरान कैलाश ने कहा था कि अगर आकाश 15 हजार से कम वोटों से जीते तो वे समझेंगें जनता उनसे नाराज है, वे जनता की उम्मीदों पर पूरी तरह से खरे नही उतर पाए।हालांकि आकाश का यह पहला चुनाव था और वे करीब 7000 हजार ज्यादा वोट बटोरने में कामयाब हुए। 

कांग्रेस के अश्विनी जोशी ने स्वीकारी हार

इंदौर तीन के कांग्रेस प्रत्याशी अश्विन जोशी ने हार स्वीकार कर ली है। वही उन्होंने आकाश पर आरोप लगाते हुए कहा कि आकाश ने धनबल से चुनाव जीता है। ये प्रजातंत्र का दुर्भाग्य है कि जिसके पास पैसा है वही चुनाव लड़ पायेगा। प्रजातंत्र में रंक भी राजा बन सकता है पर दुर्भाग्य है अब इस नही होगा। जोशी ने कहा कि धन बल से ये चुनाव जीते हैं गरीब बस्तियों में खूब पैसा बांटा गया है । जोशी ने  आकाश को जीत की बधाई दी ।वही उन्होंने कहा कि मैं फिर चुनाव लड़ूंगा।