MP में सीट बंटवारे पर फूटा अखिलेश यादव का गुस्सा, भाजपा नेता ने गठबंधन को लेकर कसा तंज

Amit Sengar
Published on -

MP Election 2023 : मध्य प्रदेश में होने जा रहे विधानसभा चुनाव को अब एक महीने से भी कम का समय बचा है। उधर सियासी पारा गर्म होता नजर आ रहा है। क्योंकि कांग्रेस और समाजवादी पार्टी के बीच सीट बंटवारे को लेकर आमने-सामने है। जबकि कुछ दिनों पहले तक प्रदेश में कांग्रेस और समाजवादी पार्टी के बीच गठबंधन के कयास लगाए जा रहे थे। लेकिन गठबंधन के पहले ही दोनों पार्टियों में कलह होनी शुरू हो गई है। हाल ही में पीसीसी चीफ कमलनाथ ने एक बयान दिया था कि I.N.D.I.A. गठबंधन सिर्फ केंद्र तक सीमित है। इस पर अखिलेश यादव ने पलटवार करते हुए कहा कि कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष गठबंधन के बारे में क्या जानते हैं।

उन्होंने ट्वीट करके कहा कि “अगर ये मुझे पहले दिन पता होता कि विधानसभा स्तर पर कोई गठबंधन नहीं है INDIA का तो कभी मिलने नहीं जाते हमारी पार्टी के लोग और न ही हम कभी सूची देते कांग्रेस के लोगों को। जबकि मुझे बताया गया कि 6 सीटों पर आपके लिए सोचा गया है, विचार किया गया है। और उस पर तय करेंगे। सिटिंग MLA की जगह आप सीट दे दोगे और उम्मीद करोगे कि मैं आपके बारे में सच बोलूं।

गुरुवार को समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव का बड़ा बयान आया है। उन्होंने कहा कि एमपी में समाजवादी पार्टी के साथ जैसा व्यवहार किया जाएगा। वैसा ही व्यवहार वह भी यूपी में करेंगे।

भाजपा नेता ने गठबंधन को लेकर कसा तंज

भाजपा प्रदेश मीडिया प्रभारी आशीष अग्रवाल ने ट्वीट करते हुए कहा कि ये तो गठबंधन नहीं ठगबंधन निकला। आगे उन्होंने लिखा ठगे जाने की शुरुआत समाजवादी पार्टी से हुई। मध्यप्रदेश में कमलनाथ ने अखिलेश यादव के साथ छल करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। सूची भी ले ली और फिर ठेंगा भी दिखा दिया। बेचारे अखिलेश यादव को कांग्रेस की मोहब्बत वाली दुकान से सिर्फ मिला तो केवल धोखा। लेकिन ये भी गौर करने वाली बात है कि अखिलेश यादव ने कांग्रेस को उसकी हैसियत बता दी!’

सपा ने 31 उम्मीदवार किए घोषित 

बता दें कि सपा ने पहली लिस्ट जारी कर एमपी की 9 सीटों पर उम्मीदवार घोषित किए थे। इसके बाद से सपा और कांग्रेस के बीच सीटों के बंटवारे को लेकर खींचतान शुरू हो गई थी। बुधवार को ही सपा ने मध्यप्रदेश में 22 उम्मीदवारों की दूसरी सूची जारी कर बगावत का आगाज कर दिया था।बता दें कि इन सीटों पर कांग्रेस भी अपने प्रत्याशी मैदान में उतार चुकी है।


About Author
Amit Sengar

Amit Sengar

मुझे अपने आप पर गर्व है कि में एक पत्रकार हूँ। क्योंकि पत्रकार होना अपने आप में कलाकार, चिंतक, लेखक या जन-हित में काम करने वाले वकील जैसा होता है। पत्रकार कोई कारोबारी, व्यापारी या राजनेता नहीं होता है वह व्यापक जनता की भलाई के सरोकारों से संचालित होता है। वहीं हेनरी ल्यूस ने कहा है कि “मैं जर्नलिस्ट बना ताकि दुनिया के दिल के अधिक करीब रहूं।”

Other Latest News