नतीजों से पहले ईवीएम को लेकर राजनीतिक दलों में आरोप-प्रत्यारोप

bjp and congress

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) की राजनीति (Politics) में ये उप-चुनाव (By-election) कई मायने में महत्वपूर्ण है, एक तरफ जहां सिंधिया शिवराज (Scindia Shivraj) समेत कांग्रेस (Congress) के बागियों की किस्मत का फैसला होना है, तो वहीं दूसरी तरफ पूर्व सीएम कमलनाथ (Former Chief Minister Kamal Nath) भी कोई कोर कसर नहीं छोड़ना चाहते हैं। गद्दार और वफादार की लड़ाई अब बदजुबानी से होते हुए ईवीएम (EVM) तक पहुंच गई है। इतना ही नहीं दोनों ही दल एक दूसरे पर लगातार हमला बोल रहे हैं। कमलनाथ, पीसी शर्मा (PC Sharma) और दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) ने बीजेपी पर सरकार में बने रहने के लिए हर हथकंडा अपनाने का आरोप लगाया, तो बीजेपी ने भी पलटवार करते हुए कहा, ”जब कांग्रेस जीतती है तो ईवीएम सही, जब हारती है तो गलत”

ईवीएम पर उठाते रहे है सवाल
जहां तक बात ईवीएम की है तो इसको लेकर देश की राजनीति में चुनाव के वक्त सवाल उठते ही रहे हैं। साल 2014 में केंद्र में बीजेपी की जीत पर कांग्रेस ने ईवीएम पर सवाल उठाए थे। अब मध्यप्रदेश की 28 सीटों पर उपचुनाव के बाद और मतगणना से पहले कांग्रेस-बीजेपी के बीच ईवीएम को लेकर आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है। सबसे पहले पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह ने मतदान के दिन ईवीएम को लेकर ट्वीट करते हुए शक जताया, जिसके बाद पलटवार करने में बीजेपी ने भी देर नहीं लगाई।

विकसित देश क्यों नहीं करते ईवीएम का इस्तेमाल : दिग्विजय
दिग्विजय सिंह ने तीन नवंबर को ट्वीट करते हुए लिखा, ”तकनीकी युग में विकसित देश ईवीएम पर भरोसा नहीं करते पर भारत व कुछ छोटे देशों में ईवीएम से चुनाव होते हैं। विकसित देश क्यों नहीं कराते? क्योंकि उन्हें ईवीएम पर भरोसा नहीं है। क्यों? क्योंकि जिसमें चिप है वह हैक हो सकती है। मीडिया से बात करते वक्त ईवीएम के सवाल पर दिग्विजय सिंह ने कहा था कि मैं इस मामले पर आज से नहीं बल्कि 2003 से सवाल उठा रहा हूं।

जब कोई मुद्दा नहीं रहता तो कांग्रेस ईवीएम पर उठती है सवाल : नरोत्तम मिश्रा
प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने भी कांग्रेस द्वारा प्रशासन और ईवीएम पर सवाल उठाए जाने पर तंज कसते हुए कहा था, ”जब जब कांग्रेस सवाल उठाती है, तब यह समझ जाइए कि कांग्रेस हारने वाली है। जब कोई मुद्दा नहीं बचता तब कांग्रेस सवाल उठाना शुरू कर देती है। क्योंकि जब उनकी जीत होती है, तो ईवीएम सही हो जाती है और जब हारते हैं तो ईवीएम खराब हो जाती है।

कांग्रेस हार का ठीकरा ईवीएम पर फोड़ने की तैयारी कर रही : शिवराज
सीएम शिवराज ने ट्वीट करते हुए लिखा था, ”कांग्रेस अपनी पराजय का ठीकरा एक बार फिर ईवीएम पर फोड़ने को तैयार है। यह वही ईवीएम है, जिससे 2018 में छत्तीसगढ़ और राजस्थान के नतीजे आए। तब ईवीएम ठीक थी लेकिन अब, जब पराजय सामने दिख रही है, तो उसे दोष देना कांग्रेस के नेताओं ने प्रारंभ कर दिया है।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here