नितिन गड़करी का ऐलान-दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेस हाईवे से जुड़ेगा इंदौर, बनेंगे लॉजिस्टिक पार्क

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट

केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी (Union Minister Nitin Gadkari) ने मंगलवार को मध्यप्रदेश (Madhyapradesh) को बड़ी सौगात देते हुए 11 हजार 427 करोड़ की सड़कों का लोकार्पण और शिलान्यास किया।इस दौरान केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने घोषणा करते हुए कहा कि वर्ष 2020-21 के लिए 10 हजार करोड़ लागत के पांच नए मार्गों की स्वीकृति प्रदान की। इनमें राष्ट्रीय मार्ग उज्जैन-झालावाड़ 132 कि.मी., सागरटोला-कबीर चबूतरा 45 कि.मी., बुदनी-रहेटी-नसरुल्लागंज 43 किमी. शामिल है। इन्दौर-सनावद-बारेगांव-136 कि.मी. और बोरगांव-बुरहानपुर-अकोला-174 कि.मी. शामिल हैं। केन्द्रीय मंत्री गडकरी ने कहा कि राष्ट्रीय राजमार्ग मंत्रालय द्वारा देवास, उज्जैन और गरोठ के बीच नया फोर लेन रोड बनाकर इंदौर को दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेस हाईवे से जोड़ा जाएगा।

केंद्रीय मंत्री ने घोषणा की है कि इंदौर और जबलपुर में लॉजिस्टिक पार्क बनाए जाएंगे, जिनके लिए राज्य सरकार के सहयोग से जमीन चिन्हित की जा रही है।  इंदौर-बैतूल रोड पर शिप्रा नदी का नया ब्रिज सितंबर-2021 तक तैयार हो जाएगा। उक्त रोड की टू लेनिंग का काम भी 2021 में पूरा कर लिया जाएगा। मालवा को कनेक्टिविटी देने के लिए दिसंबर-2020 तक 173 किलोमीटर लंबा रोड बनाने का ठेका कंपनी को सौंप दिया जाएगा।।मध्यप्रदेश में सड़क निर्माण कार्यों की कुछ डी.पी.आर. तैयार की जा रही हैं, जिन्हें शीघ्र ही मंजूरी मिलेगी। केन्द्रीय सड़क एवं बुनियादी ढाँचा निधि (CRIF) के 5325 करोड़ के 97 कार्य स्वीकृत किए गए हैं। इसके साथ ही अंतर्राज्यीय जुड़ाव एवं आर्थिक महत्व (ISC & EI) के अंतर्गत 30 करोड़ के कार्यों को स्वीकृति दी गई है। मध्यप्रदेश को 2855 करोड़ की राशि CRIF में प्रदान की गई है।

दिल्ली-मुम्बई कॉरीडोर से एमपी को मिलेगा लाभ
केन्द्रीय मंत्री गडकरी ने बताया कि भारतमाला योजना के अंतर्गत चंबल अटल प्रोग्रेस-वे के लिए शीघ्र ही आवश्यक प्रक्रिया पूर्ण की जाएगी। यह मार्ग 358 कि.मी. का है। इससे मध्यप्रदेश, उत्तरप्रदेश और राजस्थान की प्रगति तेज होगी। यह एक्सप्रेस-वे मध्यप्रदेश में 309 कि.मी., उत्तरप्रदेश में 17 किमी और राजस्थान में 32 कि.मी. का होगा। केन्द्रीय मंत्री गडकरी ने दिल्ली-मुम्बई कॉरीडोर का भी जिक्र करते हुए कहा कि एक लाख करोड़ लागत से बनेगा और समय एवं ईंधन की बड़ी बचत में उपयोगी रहेगा। दिल्ली से मुम्बई 12 घंटे में पहुंचना संभव होगा। वर्ष 2023 के पूर्व इसे निर्मित करने का लक्ष्य है। यह विश्व का सर्वाधिक लम्बाई का एक्सप्रेस हाईवे होगा। इस परियोजना में भूमि अधिग्रहण की लगभग 15 हजार करोड़ की राशि की बचत संभव हो रही है। मध्यप्रदेश में यह हाईवे 244 किमी लम्बाई में रहेगा।

एमपी में ड्राइवर ट्रेनिंग सेंटर्स प्रारंभ करने पर सहमति

केन्द्रीय मंत्री गडकरी ने कहा कि सड़क दुर्घटनाओं में कमी लाने के लिए वे प्रतिबद्ध हैं। उन्होंने प्रदेश में नए ड्राइवर ट्रेनिंग सेंटर्स प्रारंभ करने के लिए भी सहमति दी। मध्यप्रदेश ही नहीं पूरे देश में सड़कों के अनेक ब्लैक स्पॉट में सुधार कार्य से हादसों में कमी आ रही है। मध्यप्रदेश को सड़क निर्माण परियोजनाओं और कृषि आधारित लघु उद्योगों के विकास में भरपूर सहयोग कर आत्मनिर्भर भारत के अंतर्गत आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के लिए सभी स्वीकृतियाँ देने का आश्वासन दिया।

इन परियोजनाओं का हुआ लोकार्पण

1. रीवा-मैहर कटनी-स्लीमनाबाद-जबलपुर-लखनादौन फोर लेन, लागत 4348 करोड़, एनएच-30 और 34 लम्बाई 287 किमी

2. ब्यावरा-पचौर-सारंगपुर-शाजापुर-मक्सी-देवास खंड फोर लेन, लागत 1584 करोड़, एनएच-52, लम्बाई 131 किमी.

3. भोपाल-ब्यावरा खंड में लालघाटी से मुबारकपुर, भोपाल आरओबी सहित 6/4 लेन चौड़ीकरण, लागत 374 करोड़, एनएच 46 लम्बाई 8 किमी

4. भोपाल-सांची खण्ड में दो लेन, लागत 305 करोड़, एनएच-136, लम्बाई 54 किमी.

5. ग्वालियर-शिवपुरी खण्ड में चार लेन चौड़ीकरण (नौगांव से सतनवाड़ा) लागत-1055 करोड़, एनएच-46, लम्बाई 97 किमी.

6. ग्वालियर-शिवपुर खण्ड में फोर लेन चौड़ीकरण (मोहना टाउन भाग) ग्वालियर-झांसी खण्ड में डबरा टाउन और सिमरिया टेकरी से हरीपुर तिराहा के साथ जौरासी मंदिर पहुंच मार्ग) लागत 79 करोड़, एनएच-46 और 44, लम्बाई 14 किमी.

इन परियोजनाओं का हुआ शिलान्यास

केन्द्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग एवं सूक्ष्म, लघु और मध्यम-उद्यम मंत्री नितिन गडकरी ने मुख्यमंत्री श्री चौहान के साथ आज जिन योजनाओं का शिलान्यास किया है, वे इस प्रकार हैं –

1. हरदा-बैतूल चार लेन मार्ग का चौड़ीकरण (चिचौली-बैतूल) लागत 620 करोड़, एनएच-47, लम्बाई 40 किलोमीटर।

2. कटनी बायपास चार लेन चौड़ीकरण – लागत 194 करोड़, एनएच -30, लम्बाई 20 किलोमीटर।

3. हरदा-बैतूल चार लेन चौड़ीकरण (हरदा टेमगांव) – लागत 555 करोड़, एनएच-47, लम्बाई 30 किलोमीटर।

4. इन्दौर-हरदा- चार लेन चौड़ीकरण (ननासा-पिडगांव)- लागत 867 करोड़, एनएच-47, लम्बाई-47 किलोमीटर।

प्रदेश में 6 मार्गों का सुदृढ़ीकरण कार्य- (लागत-84 करोड़) लम्बाई 172 किलोमीटर

1. इन्दौर-बैतूल एनएच-47

2. अंबुआ से दाहोद एनएच-56

3. गुलगंज-अमानगंज-पवई-कटनी रोड एनएच-43 एक्सटेंशन

4. टीकमगढ़-पृथ्वीपुर-ओरछा रोड-एनएच-539

5. दिनारा-पिछोर रोड- एनएच-346

6. सवाई-माधोपुर (राजस्थान) से श्योपुर-गोरस-श्यामपुर रोड-एनएच 552 एक्सटेंशन

सागर-खुरई-बीना खंड के जेरई पर चार लेन आरओबी और जरूआखेड़ा पर दो लेन आरओबी (लागत 144 करोड़) एनएच-934

जिन पुलों का निर्माण कार्य होगा, वे इस प्रकार हैं-

1. एनएच-539 में बेतवा नदी पर पुल

2. एनएच-45 एक्सटेंशन में जबलपुर-डिण्डोरी पर पुल

3. एनएच-47 इन्दौर-बैतूल खण्ड में क्षिप्रा नदी पर 60 करोड़ की लागत से पुल निर्माण।

इन कार्यों के साथ ही सीआरआईएफ में भी 85 करोड़ लागत के 59 किलोमीटर लम्बाई के चार निर्माण कार्य किए जाएंगे।