शिकायतों की चिट्ठी, कमिश्नर की मुहर और निपट गए एसपी साहब

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। तीन दिन पहले हुए सिंगल तबादले आदेश में अनूपपुर जिले के एसपी अखिल पटेल (Anuppur SP Akhil Patel) को हटा दिया गया है। दरअसल अनूपपुर जिले में पुलिस की कार्रवाई को लेकर संयुक्त मोर्चा द्वारा शिकायत की गई थी और इस शिकायत को मुख्य सचिव को शहडोल के संभाग आयुक्त के माध्यम से पहुंचाया गया था। संभागायुक्त ने भी इन शिकायतों की पुष्टि की थी।

संस्कृति बचाओ मंच के अध्यक्ष ने दृष्टि IAS कोचिंग के संचालक डॉ. दिव्यकीर्ति के खिलाफ की कार्रवाई की मांग

27 अक्टूबर को अनूपपुर जिले के अधिकारियों-कर्मचारियों के संयुक्त मोर्चे ने मध्य प्रदेश के मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस को एक पत्र लिखा था और इसकी प्रति शहडोल के संभाग आयुक्त राजीव शर्मा को भी दी थी। इसमें अनूपपुर जिले की पुलिस की विभिन्न कार्य प्रणालियों का उल्लेख किया गया था जिससे अधिकारियों और कर्मचारियों में भय का माहौल व्याप्त होना बताया गया था। इस पत्र के साथ शहडोल के संभाग आयुक्त का एक कवरिंग लेटर भी मुख्य सचिव को गया जिसमें अनूपपुर जिले की स्थिति को गंभीर बताया गया। इसी पत्र पर कार्रवाई करते हुए सरकार ने अनूपपुर के एसपी अखिल पटेल को पुलिस मुख्यालय में अटैच कर दिया। बताया यह भी गया है कि अनूपपुर की कलेक्टर और एसपी की पिछले काफी दिनों से अनबन चल रही थी और इसकी शिकायत कलेक्टर ने लगातार आला अधिकारियों से की थी। इस पूरे मामले में हैरत की बात यह रही कि केवल एक पत्र और कमिश्नर के अनुमोदन के आधार पर एसपी को हटा दिया गया और बिना किसी उच्च स्तरीय जांच के शिकायत को प्रमाणित मान लिया गया।

लिंक पर क्लिक कर देखिए संयुक्त मोर्चा द्वारा दिया गया शिकायती आवेदन पत्र-

Sanyukt Morcha Gyapan pdf