मध्य प्रदेश में ट्रेन से रेत के परिवहन को मंजूरी, पूरे देश में भेजी जाएगी नर्मदा और चंबल की रेत

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। रेत को लेकर लंबे समय से की जा रही मांग को सरकार ने मान लिया है। प्रदेश में अब रेत का परिवहन रेल से भी किया जा सकेगा। सरकार ने रेल से रेत के परिवहन के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। यह प्रस्ताव खनिज साधन विभाग ने सरकार को भेजा था। अब इस नई व्यवस्था में ठेकेदार को खनिज विभाग और रेलवे से परिवहन की अनुमति लेनी होगी और इसके लिए उसे बाकायदा रेलवे को शुल्क भी चुकाना होगा।इसके लिए रेलवे से ई-टीपी  लेना होगी। वहीं खनिज विभाग अपनी टीपी जारी करेगा, जो खदान से नजदीकी रेलवे स्टेशन के लिए होगी।

सरकार की बड़ी योजना, पेंशनर्स को मिलेंगे 1.78 लाख मासिक आय, करें ये काम

जांच दो स्तर पर होगी, खदान से डंफर में कितनी रेत भरी जा रही है और रैक में कितनी रेत लोड हो रही है। इसकी निगरानी स्थानीय खनिज अमला करेगा। अमला रैक में रेत लोड करते समय उपस्थित रहेगा। हालांकि माना जा रहा है कि खदान से डंफर एवं डंफर से रैक में लोड करने और यही प्रक्रिया उतारते समय अपनाने से ग्राहक को रेत महंगी पड़ेगी। हालांकि अभी ठेकेदारों ने दाम तय नहीं किए हैं। पहले वे पूरी प्रक्रिया समझेंगे और फिर खदान से रेत पहुंचाने वाले स्थान के दूरी के हिसाब से निर्णय लेंगे।