अंतर्राष्ट्रीय मंच पर दिखी भोपाल की कला, देश-दुनिया से आए लोगों ने सराहा जरी वर्क

भोपाल। प्रदेश की राजधानी भोपाल की विभिन्न खासियतों में यहां की जरी और जरदौजी वर्क भी शामिल है। इसे देश-विदेश में हमेशा सराहा और पसंद किया जाता रहा है। यहां की कला ने एक बार फिर अंतर्राष्ट्रीय मंच पर अपनी विशेषता का लोहा मनवाया है। दिल्ली के एक पांच सितारा होटल में देश-विदेश के कलाकारों की मौजूदगी में इस कला का सम्मान किया गया। मंच पर मौजूद कई केन्द्रीय मंत्रियों ने न सिर्फ इस कला को सराहा, बल्कि इसको बढ़ावा देने का आश्वासन भी दिया है।

मशहूर फैशन डिजाइनर ऋतु बैरी द्वारा दिल्ली में आयोजित कार्यक्रम द लक्जरी सिम्पोजियम-2019 हालांकि मूलत: उज्बेकिस्तान के कलाकारों को देशी मंच देने की मंशा के साथ किया गया था। लेकिन दो दिनी इस आयोजन में भारतीय परंपरा और संस्कृति को देश-विदेश तक पहुंचाने के प्रयास भी किए गए। इस दौरान विभिन्न भारतीय कलाओं के बीच मप्र की राजधानी भोपाल के मशहूर जरी-जरदौजी वर्क को भी जगह दी गई थी। इस कला में प्रदेश की इकलौती स्टेट अवार्डी हुमा खान अपने विभिन्न डिजाइनों के साथ इस आयोजन में मौजूद थीं। कार्यक्रम के पहले दिन पहुंचे केन्द्रीय अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी और स्किल इंडिया मंत्री डॉ. महेन्द्र पाण्डेय ने जरी वर्क की प्रशंसा करते हुए इसके विस्तार और विकास के लिए किए जाने वाले प्रयासों में सहयोग देने की बात कही। उन्होंने इस काम के लिए हुमा खान को मंच से सम्मानित भी किया। उन्हें प्रशस्ति पत्र सौंपते हुए इस काम को निरंतर बनाए रखने की बात कही।

ऋतु बोलीं, हर आयोजन में दिखेगी जरी

हुमैरा खान के जरी वर्क से देश-दुनिया में पहचान रखने वालीं ऋतु बैरी भी प्रभावित दिखाई दीं। उन्होंने हुमा के इस काम को अपने अगले सभी आयोजन में शामिल रखने की बात कही। उन्होंने 14 नवंबर से दिल्ली प्रगति मैदान पर आयोजित हुनर हाट और दिसंबर माह के अंत में होने वाले मुंबई के हुनर हाट में भी जरी की मौजूदगी रहने की बात कही। 

गड़करी बोले हाई-वे पर चमके खादी और जरी

कार्यक्रम के दूसरे दिन सिम्पोजियम में पहुंचे केन्द्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गड़करी ने कहा कि देश का सबसे बड़ा एक्सप्रेस हाईवे दिल्ली से मुंबई तक बनाया जा रहा है। बारह लेन वाले इस एक्सप्रेसवे के मार्ग में निश्चित तौर पर ढ़ाबों और रेस्टोरेंट की मौजूदगी रहेगी। उन्होंने कहा कि देश की पहचान मानी जाने वाली खादी और जरी वर्क को और ज्यादा प्रचारित करने के लिए एक्सप्रेसवे पर एम्पोरियम और ढ़ाबों का सहारा लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि इस मामले में वे संबंधित विभाग से चर्चा कर जल्दी ही इसके लिए खाका तैयार करवाएंगे।

अभिभूत हूं इस सम्मान से : हुमा

वर्ष 2007 में तत्कालीन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के हाथों स्टेट अवार्ड मिलना एक सुखद अनुभव था। इस सम्मान से मिले काम के हौसले ने काम की बारीकी और सुंदरता को बढ़ाया। जो निखर कर अब इस सीमा तक आ चुका है कि इस काम को अंतर्राष्ट्रीय क्राफ्ट के रूप में पसंद किया जा रहा है। हुमा कहती हैं कि अपनी मेहनतों का यह सिला मिलना निश्चित सुखद भी है और आगे काम करने का हौसला देने वाला भी। उन्होंने कार्यक्रम आयोजक ऋतु बैरी और उनकी पूरी टीम का शुक्रिया अदा किया, जिन्होंने उन्हें यह मंच प्रदान किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here