मध्यप्रदेश पुलिस आरक्षक भर्ती के फिजिकल टेस्ट पर 2 जून तक रोक

भीषण गर्मी को देखते हुए मध्यप्रदेश सरकर के गृह विभाग ने यह फैसला लिया है, आरक्षक भर्ती के फिजिकल टेस्ट के दौरान जबलपुर में दौड़ते समय बेहोश हुए 2 उम्मीदवारों की मौत के बाद टेस्ट पर 2 जून तक रोक लगा दी गई है

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश में पुलिस आरक्षक भर्ती के लिए फिजिकल टेस्ट पर फिलहाल रोक लगा दी गई है भीषण गर्मी को देखते हुए यह रोक 2 जून तक लगाई गई है, गौरतलब है कि 9 मई से मध्यप्रदेश में पुलिस आरक्षक भर्ती के तहत उम्मीदवारों के फिजिकल टेस्ट शुरू हुए थे और इसी टेस्ट के दौरान बुधवार 11 मई को जबलपुर में सिवनी से आए एक 22 साल के उम्मीदवार नरेंद्र कुमार गौतम की 800 मीटर दौड़ के दौरान बेहोश होने के बाद मौत हो गई थी। वही 10 मई को भी दौड़ के दौरान बेहोश हुए बालाघाट निवासी 29 साल के इंदरकुमार लिल्हारे की भी दौड़ के दौरान हालत बिगड़ी जिसके बाद उसके नाक, कान से खून निकलना शुरू हो गया, इलाज के दौरान देर रात उसकी भी मौत हो गई, पुलिस आरक्षक भर्ती के यह टेस्ट प्रदेश के 6 शहरों में आयोजित किए जा रहे थे। जो 9 मई से शुरू होकर 5 जून तक होने थे। ये टेस्ट 6 हजार पदों पर होने वाली भर्ती के लिए हो रहे हैं। जो बीते जनवरी और फरवरी में परीक्षा हुई थी।

यह भी पढ़ें…. Ashoknagar News : वायरल ऑडियो से सामने आया सरकारी तंत्र में भ्रष्टाचार का खेल

गौरतलब है कि मध्यप्रदेश पुलिस में आरक्षक भर्ती में 6 हजार पदों के लिए ये फिजिकल टेस्ट होना है। इसके लिए हुई परीक्षा का 24 मार्च को PEB ने ऑन लाइन परीक्षा का रिजल्ट जारी हुआ था। जिसके बाद अब फिजिकल टेस्ट लिया जा रहा है। पीईबी ने आरक्षक भर्ती के लिए 8 जनवरी से 17 फरवरी तक ऑनलाइन परीक्षा आयोजित की थी। जिसका रिजल्ट 24 मार्च को घोषित किया। 6 हजार पदों के लिए 5 गुना अधिक उम्मीदवारों को क्वालिफाई किया गया। इनकी संख्या 31 हजार 208 है। पुलिस मुख्यालय द्वारा इनका फिजिकल टेस्ट लिया जाना 9 मई से शुरू हो गया था। लेकिन अब इस पर 2 जून तक रोक लगा दी गई है, यह फिजिकल टेस्ट जबलपुर में परेड ग्राउंड छठवीं वाहिनी विसबल,रांझी वही भोपाल में मोतीलाल नेहरू स्टेडियम लाल परेड ग्राउंड, इंदौर में पुलिस प्रशिक्षण महाविद्यालय पीटीसी, मूसाखेड़ी इसके साथ ही ग्वालियर परेड ग्राउंड 14वीं वाहिनी विसबल, कंपू, वही उज्जैन में महानंदा एरिना ग्राउंड देवास रोड और सागर में शासकीय इंदिरा गांधी इंजीनियरिंग कॉलेज में चल रही थी।