लोकसभा चुनाव से पहले संघ की बड़ी बैठक आज, उम्मीदवारों समेत इन मु्द्दों पर होगी चर्चा

Before-the-Lok-Sabha-elections

भोपाल।

लोकसभा चुनाव से पहले आज शुक्रवार को  ग्वालियर में आरएसएस की बड़ी बैठक बुलाई गई है।  तीन दिवसीय इस बैठक अखिल भारतीय प्रतिनिधि के साथ बीजेपी की तरफ से राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह भी भाग लेंगें। इसकी अध्यक्षता खुद संघ प्रमुख मोहन भागवत करेंगे।बैठक में देश की ज्वलंत समस्याओं पर आधारित तीन प्रस्ताव व कुछ मसलों पर प्रतिवेदन रखा जाएगा।इसमें संघ की वार्षिक गतिविधियों और कार्यक्रमों पर मंथन किया जाएगा।इसके अलावा माना जा रहा है कि बैठक में लोकसभा चुनाव के लिए बीजेपी उम्मीदवार को लेकर भी चर्चा की जाएगी और संघ के मुताबित ही टिकट बांटे जाएंगे। विधानसभा चुनाव में मिली करारी हार के बाद बीजेपी ने फिर संघ का सहारा लिया है, इसी के चलते शाह इस बैठक में शामिल होंगें। आज नामों पर चर्चा होना संभव है।

यह बैठक 8 मार्च से 10 मार्च तक चलेगी।  केदारपुर धाम में आयोजित हो रही इस बैठक में देशभर से करीब 17 सौ से ज्यादा पदाधिकारी और कार्यकर्ता जुटेंगे। इसकी तैयारियों को लेकर गुरुवार को सरकार्यवाह भैयाजी जोशी, सह सरकार्यवाह सुरेश सोनी, दत्तात्रेय होसबोले, डॉ. मनमोहन वैद्य व अन्य पदाधिकारियों की एक उच्च स्तरीय बैठक हुई, जिसमें तैयारियों को अंतिम रुप दिया गया। इसमें देश की ज्वलंत समस्याओं पर आधारित तीन प्रस्ताव व कुछ मसलों पर प्रतिवेदन रखा जाएगा। संघ से जुड़े जानकारों के अनुसार इस बार कम से कम 2 व अधिकतम तीन प्रस्ताव पारित किए जा सकते हैं। इसके अलावा कई अन्य महत्वपूर्ण विषयों पर प्रतिवेदन भी रखे जाएंगे।

वही सुत्रों की माने तो इस बैठक में लोकसभा चुनाव 2019 में नरेंद्र मोदी सरकार की फिर से जीत पर फोकस किया जाएगा। बैठक में चुनाव को लेकर र��नीति बनाई जाएगी और उम्मीदवारों पर भी चर्चा की जा सकती है।  सुत्रों के मुताबिक इसी बैठक में लोकसभा के एजेंडे को भी तय किया जाएगा। देश में हिंदुत्व के एजेंडे को चुनाव में जनता के सामने कैसे रखना है इस पर इस बैठक में चर्चा की जाएगी।संघ के सभी सहयोगी संगठनों के बड़े नेता इस बैठक में चुनाव की रणनीति का खाखा तैयार करेंगे।पूर्व में जिन उम्मीदवारों ने चुनाव लड़ा था वह सब संघ की खास पसंद में से हैं। इसबार भी कयास लगाए जा रहे हैं लोकसभा चुनाव के लिए उम्मीदवार संघ की पसंद के ही तय किए जाएंगे। आरएसएस नेताओं के साथ भाजपा संगठनों में बदलाव पर भी चर्चा हुई। एलएस चुनावों से पहले कई संगठनात्मक सचिवों को हटाया जाना है।

बता दे कि अखिल भारतीय जन प्रतिनिधि सभा साल में एक बार आयोजित होती है, जिसमें संघ द्वारा सभी आवाश्यक निर्णय लिये जाते हैं। ये पहला मौका है कि अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा की बैठक मध्यप्रदेश में आयोजित की जा रही है। बताया जा रहा है बैठक में एमपी लोकसभा चुनाव को लेकर भी रणनीति पर चर्चा हो सकती है। हालांकि संघ ने इससे पहले ही साफ कर दिया था कि इस बैठक को राजनीति से न जोड़ा जाए।