राजधानी को हरा-भरा बनाने की कवायद शुरु, इस साल रौपे जाएंगें 2 लाख पौधे

Beginning-the-exercise-of-making-the-capital-green

भोपाल।

मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में पर्यावरण को फिर से हरा-भरा व शुद्ध बनाने के लिए वन विभाग, नगर निगम,सीपीए समेत अन्य सरकारी महकमें मिलकर एक नई पहल शुरु करने वाले है।जिसके तहत शहर में दो लाख पेड़ रौपें जाएंगें। वही मानसून के लिए वन विभाग ने साढे छह करोड़ से ज्यादा पौधे तैयार किए है।खास बात ये है कि इसकी मॉनिटरिंग संभागायुक्त कल्पना श्रीवास्तव कर रही है। उन्होंने खुद अधिकारियों के साथ बैठक कर ये निर्देश दिए है।

दरअसल, संभागायुक्त कल्पना श्रीवास्तव की पहल पर एक बार फिर राजधानी भोपाल को हरा-भरा बनाने की कवायद शुरु होने जा रही है। उन्होंने नगर निगम, वन विभाग , सीपीए और अन्य सभी विभागों के अधिकारियों के साथ बैठक कर इस अभियान को चलाने के निर्देश दिए है।इसके साथ ही उन्होंने सजावटी पौधों की बजाय बोगनवेलिया , सतपर्णी, नीम, पीपल, पलाश, अमलताश, आवंला के पौधे प्रमुखता से लगाने के निर्दश दिए है।इस पहल की चारों और प्रशंसा हो रही है।

इसमें छह विभाग  एक साथ मिलकर एक अभियान को आगे बढाएंगें। इसके लिए कई विभागों के संयुक्त पौधारोपण अभियान के लिए दो लाख से अधिक पौधे आऱक्षित किए गए है।खास बात ये है कि मानसून में पौधारोपण के लिए वन विभाग ने करीब साढ़े छह करोड़ से अधिक पौधे तैयार किए है।स्मार्ट सिटी डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन ने पौधारोपण अभियान के लिए मैपिंग भी शुरु कर दी है। अधिकारियों के मुताबिक इस मानसून में राजधानी के 325  पार्कों और नगर वन क्षेत्र में पौधे रौपे जाएंगें।इसके लिए अधिकारिय़ों  ने जगह की तलाश करना शुरु कर दिए है जहां पौधे लगाए जाएंगें। विभागों का लक्ष्य मानसून से पहले स्थानों को चयनित कर गढ्डे कर पूरी तैयारी करने की है, ताकी जैसे ही पहली बारिश शुरु होते ही पौधे रोपने का काम शुरु किया जा सके।