सोनिया के इशारे पर बयान दे रहे कमलनाथ- गोपाल भार्गव

64

भोपाल। मुख्यमंत्री कमलनाथ के आरएसएस पर दिए गए बयान को लेकर बवाल मच गया है। दरअसल शनिवार सुबह मुख्यमंत्री कमलनाथ की ओर से जारी की गई एक विज्ञप्ति में कहा गया था कि आरएसएस जिस तरह से जनगणना में आदिवासियों को हिंदू धर्म का होने के लिए बताने का अभियान चलाने वाली है, वह घोर आपत्तिजनक है और इसे लेकर सरकार आरएसएस के खिलाफ वैधानिक कार्रवाई करेगी। कमलनाथ की विज्ञप्ति में यह भी लिखा गया था कि आदिवासियों की अपनी अलग संस्कृति है और उन्हें आरएसएस अपने साहित्य में हमेशा वनवासी बताती रही है। अब राजनीतिक लाभ के लिए एक बार फिर आरएसएस उनका दुरुपयोग करना चाहती है।

इस विज्ञप्ति पर नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। उन्होंने कहा है कि मुख्यमंत्री छिंदवाड़ा सहित प्रदेश के आदिवासियों का धर्म परिवर्तन करके उन्हें ईसाई बनाना चाहते हैं और यह सब वह कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी के इशारे पर कर रहे हैं। नेता प्रतिपक्ष ने कहा है कि पहले भी सनातन धर्म के साथ बहुत खिलवाड़ हो चुका है और कमलनाथ जी अब खिलवाड़ को बंद करें। आदिवासी आदिकाल से सनातन संस्कृति हिंदू धर्म का अभिन्न अंग रहा है और गरीब वनवासी शबरी के झूठे बेर भगवान राम के द्वारा खाना इसका प्रत्यक्ष प्रमाण है। सनातन धर्म को सबसे ज्यादा पोषित और पल्लवित करने का काम वनवासी वर्ग ने ही किया है, चाहे वह द्वापरयुग रहा हो या त्रेतायुग। ऐसे में मुख्यमंत्री का यह बयान आपत्तिजनक है और इसे कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। नेता प्रतिपक्ष के इस बयान के बाद लगता है कि यह मामला अभी फिलहाल थमेगा नहीं बल्कि आगे तूल ही पकड़ेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here