नकली दूध माफिया पर कमिश्नर की बङी कारवाई

भोपाल। मध्य प्रदेश में बीते कुछ महिनों के दौरान मिलावटी दूध, पनीर, मावा और घी मिलने के मामले तेजी से बढ़े हैं। जिसके खिलाफ प्रशासन ने सख्त कदम उठाए हैं। राजधानी में भी इन मामलों पर लगाम लगाने के लिए संभागायुक्त कल्पना श्रीवास्तव ने एक बार फिर बड़ी कार्रवाई की अंजाम दिया है। उन्हें खबर मिली थी कि राजधानी में नकली दूध बनाने का गोरखधंधा चल रहा है। उन्होंने आरोपियों पर कार्रवाई के निर्देश दिए। जिसके बाद क्राइम ब्रांच भोपाल की टीम ने नकली दूध का गोरखधंधा करने वालों पर बड़ी कार्यवाही की। 

दरअसल, भोपाल कमिश्नर कल्पना श्रीवास्तव अपनी सख्त कार्यशैली के लिए जानी जाती हैं। सरकार के निर्देश के बाद से ही उन्होंने मिलवटखोरों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई को अंजाम दिया है। एक बार फिर उनके निर्देश पर राजधानी में मिलावटखोरों पर सख्त कार्रवाई की गई है। क्राईम ब्रांच की टीम को सूचना मिली थी कि मुल्ताई से 20 हजार लीटर दूध लेकर भोपाल स्थित सांची दुग्ध संघ के प्लांट आने वाले एक टैंकर में से कुछ लोग दूध निकालकर उसकी जगह गंदा पानी और यूरिया मिला देते हैं। सूचना के आधार पर क्राईम ब्रांच एएसपी निश्चल एन झारिया टीम के साथ मिसरोद मंडीदीप की सीमा पर रेलवे क्रॉसिंग के पास सडक़ किनारे एक ढाबे के पास पहुंचे। जहां उन्हें दूध का टैंकर एमपी13-एच-2178 खड़ा मिला। पुलिस को देखकर ढाबा संचालक और कुछ अन्य लोग भाग निकले, जबकि टैंकर का ड्राइवर फरहान पकड़ा गया। टीम द्वारा जांच करने पर टैंकर की लगी सील टूटी मिली। पूछताछ में पता चला कि इस टैंकर से 36 केनों में दूध निकाला जा चुका है। आरोपी टैंकर से निकाले गए दूध के बदले यूरिया निर्मित सिंथेटिक दूध और गंदे पानी से बना नकली दूध मिलाते थे, जिससे चोरी का पता न चल सके। आरोपितों द्वारा करीब 1000 से 1500 लीटर नकली दूध तैयार किया जाता था और फिर इस नकली दूध को सांची दूध के टैंकर में मिलाकर भोपाल भेजा जाता था। 

जीपीएस निकालकर रख देते थे पंचर की दुकान पर

भोपाल दुग्ध संघ के टैंकरों की लोकेशन पता करने के लिए उनमें जीपीएस सिस्टम लगाए गए हैं। लेकिन आरोपी इतने शातिर थे कि उनकी चोरी पकड़ी ना जाए इसके लिए टैंकर का ड्राइवर और मिलावटखोर टैंकर का जीपीएस सिस्टम निकालकर सडक़ किनारे एक पंक्चर की दुकान पर रख देखे थे। ताकि टैंकर की लोकेशन होशंगाबाद हाइवे पर मिले। इसके बाद जीपीएस निकाल कर सुनसान इलाके में टैंकर ले जाकर दूध में मिलावट के काले कारनामे को अंजाम देते थे। क्राइम ब्रांच ने मौके से 50-50 लीटर की 36 केन, यूरिया की बोरियां, दूध निकालने के पाइप एवं टैंकर जब्त किए हैं। एएसपी झारिया ने बताया फिलहाल दो लोगों को हिरासत में लिया है। पुलिस उनसे पूछताछ कर रही है। पुलिस यह भी पता लगाने की कोशिश कर रही है कि इस गिरोह से कौन-कौन लोग जुड़े हैं और यह धंधा कब से चल रहा है, इसकी जांच की जाएगी। पुलिस ने बताया कि आरटीओ रिकॉर्ड में टैंकर उज्जैन निवासी पूजा पांडे के नाम रजिस्टर्ड है।

नकली दूध माफिया पर कमिश्नर की बङी कारवाई