भोपाल क्राइम ब्रांच ने किया फ़र्ज़ी बही बनाने वाले गिरोह को

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। राजधानी भोपाल में क्राइम ब्रांच पुलिस ने दर्जनों अपराधी प्रकरणों में फर्जी बही बनाकर जमानत कराने वाले पांच जमानतदार को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है। इन आरोपियों पर जमानतदार खड़े कर जमानत कराने का धोखाधड़ी का आरोप है। पहले भी यह लोग तीन बार गिरफ्तार हो चुके हैं। फर्जी जमानत कराने के मामले में जमानत पर छूटने के बाद उन्होंने गोरखधंधा भोपाल के न्यायालय में शुरू कर दिया है।

यह भी पढ़ें… जब राज्यपाल मंगू भाई पटेल ने जताई एक गंभीर बीमारी को लेकर चिंता

भोपाल क्राइम ब्रांच ने फ़र्ज़ी वही बनाकर जमानतदरों के गिरोह का भंडाफोड़ करने में सफलता हासिल कर ली है।आरोपियो ने पूछताछ पर बताया कि आरोपी संदीप कुशवाह ने पूर्व से गिरफ्तार आरोपी सलमान को फर्जी बही दी थी,और वह रामकिशन के नाम से फर्जी दस्तावेज तैयार कर जमानत लेता था।आरोपी राजेन्द्र सिंह मीणा उर्फ गुड्डा ने फर्जी दस्तावेज पर जमानत लेता था।आरोपी लोकेश यादव साठ-गाठ कर न्यायालय में फर्जी जमानतदारो को फर्जी दस्तावेज सहित तैयार कर जमानत के लिये न्यायालय में खड़ा करता था। गणेश मकवाना फर्जी बही 800 रुपये में उपलब्ध करवाता था,जमानत दिलाने के लिए आरोपी गणेश मकवाना उनके साथियों को 800 से 1000 रुपए में ही बही उपलब्ध करा देता था,और बही के माध्यम से कोर्ट में आरोपियों की जमानत फर्जी तरीके से करा लेते थे।पकड़े गए आरोपियों के अलग-अलग रोल है,जो अपना काम करते थे, उसमें एक आरोपी लोकेश जो सांठगांठ कर जमानतदार को न्यायालय में पेश करने के लिए कार्य करता था।

यह भी पढ़ें… जब राज्यपाल मंगू भाई पटेल ने जताई एक गंभीर बीमारी को लेकर चिंता

एडिशनल डीसीपी क्राइम शैलेंद्र सिंह चौहान ने बताया कि हम पूरे मामले की गहराई से जांच कर रहे हैं। भोपाल कोर्ट में लगातार इस तरह के मामले सामने आते हैं कि फर्जी बही बनाकर जमानत ली जाती हैऔर जांच के बाद पता चलता है कि बही फर्जी थी और हम इस तरह धोखाधड़ी करने वालों की तलाश कर रहे हैं। पकड़े गए आरोपी ज्यादा पढ़े लिखे भी नहीं है लेकिन कोर्ट में पढ़े लिखे लोगों को धोखाधड़ी का शिकार बनाते हैं। एक साथी को पुलिस ने पूर्व में गिरफ्तार किया था। और उसी ने इन सब के विषय में जानकारी दी थी। जिसके बाद इन्हें भी गिरफ्तार किया गया है। इनसे पूछताछ में अभी और भी खुलासा होने की संभावना है।इसके अलावा इनके गैंग में और कौन लोग शामिल हैउसके विषय में भी क्राइम ब्रांच पता कर रही है।