Bhopal News: कांग्रेस सांसद ने क्यों बांधे मध्य प्रदेश के डीजीपी की तारीफ के पुल?

मैथिलीशरण गुप्त विवाद में कूदे विवेक तंखा। ट्विटर पर की डीजीपी की तारीफ।

भोपाल डेस्क रिपोर्ट। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सीनियर एडवोकेट विवेक तंखा ने मध्य प्रदेश के डीजीपी विवेक जौहरी द्वारा उठाए गए एक कदम को लेकर उनकी सराहना की है। ट्वीट के माध्यम से तंखा ने लिखा है कि जौहरी ने ‘भारतीय संविधान ही अधिकारियों का धर्म है’ की भावना को साबित कर दिया है।

यह भी देखें- Bhopal Corona : निजी अस्पतालों को मिली कोरोना इलाज की सशर्त परमिशन, तय हुए इलाज के रेट

शुक्रवार के दिन मध्य प्रदेश के सीनियर आईपीएस अधिकारियों का एक व्हाट्सएप ग्रुप चर्चा का विषय बन गया था। ‘आईपीएस एमपी’ के नाम से बने इस ग्रुप में एक सीनियर रिटायर्ड आईपीएस ऑफिसर मैथिली शरण गुप्त ने एक टिप्पणी कर दी थी। इस टिप्पणी में देश के बंटवारे और मुस्लिम लीग को लेकर बातें की गई थी और देश की बर्बादी का कारण एक समुदाय विशेष को बताया गया था।

यहां भी देखें- मध्यप्रदेश में कोरोना का विस्फोट, Indore-Bhopal बना हॉटस्पॉट, केंद्र ने दिए निर्देश

यह भी कहा गया था कि समुदाय विशेष के भारत में रहने की वजह अंग्रेज बने। सीनियर रिटायर्ड आईपीएस ऑफिसर संजय चौधरी के साथ डीजीपी विवेक जौहरी ने भी इस पोस्ट को लेकर आपत्ति जताई थी और मैथिलीशरण गुप्त को कहा था कि वह इस पोस्ट को हटा लें। लेकिन गुप्त अपनी बात पर अड़े रहे और उन्होंने कहा कि ऐतिहासिक तथ्यों के आधार पर उन्होंने यह बात लिखी है।इसके बाद मैथिलीशरण गुप्त को ग्रुप से हटा दिया गया था। इसे लेकर राजसभा सांसद विवेक तंखा ने जौहरी की तारीफ की है। ट्वीट में उन्होंने लिखा है कि “डीजीपी जौहरी ने साबित किया है कि भारतीय संविधान ही अधिकारियों का धर्म है।

यह भी देखें- Bhopal : लोकायुक्त की बड़ी कार्रवाई, 8 हजार रूपए लेते रंगेहाथों धराए पटवारी, गिरफ्तार

जौहरी का यह बोल्ड स्टेप यह साबित करता है।” इसके साथ ही तंखा ने एक ट्वीट और किया है और रुस्तम जी,वीपी नरोन्हा और महेश बुच जैसे प्रदेश के उन पूर्व अधिकारियों का भी स्मरण किया है जिन्होंने अपने कार्यों से प्रदेश वासियों के दिलों में जगह बनाई। ट्वीट के आखिर में तंखा ने भाजपा पर कटाक्ष भी कर डाला और लिखा कि “बीते हुए दिन वापस लाओ प्रदेश और देश बचाओ।”