Bhopal News: थोक व्यापारी के साथ हुई मारपीट, पुलिस के पास मामला दर्ज, पढ़ें पूरी खबर

Manisha Kumari Pandey
Published on -

Bhopal News: भोपाल के एक थोक व्यापारी ने बैरागढ़ में रहने वाले एक रीटेल व्यापारी पर मारपीट करने का आरोप लगाया है। जिसकी शिकायत बैरागढ़ थाने में की गई है। थोक व्यापारी का कहना है कि बैरागढ़ के व्यापारी ने उसे अपनी दुकान पर बुलाया था। और रेडिमेट कपड़ो का माल ना देने का कारण पूछा। इस पर थोक के व्यापारी ने कहा कि, “पहले पुराना हिसाब करो, फिर नया माल दूंगा।” जिसके बाद दोनों के विवाद शुरू हो गया।

पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक फरियादी लोकेश रामवानी ने लिखित शिकायत बैरागढ़ में कि है। वह भोपाल में रेडीमेट कपड़ों की दुकान चलाते है। उन्होनें बताया कि, “31 मार्च को वह बैरागढ़ बाजार में कलेक्शन करने आया था। मुख्य मार्ग पर ही स्थित एक दुकान के संचालक सचिन का भाई उसे बुलाने आया। वहां जाने पर मॉल की खरीदी को लेकर दोनों में बहस शुरू हो गई”

माल देने से मना करने पर रीटेल व्यापारी फरियादी के साथ गाली-गलोच और मारपीट करने लगा। लोकेश के साथ प्लास्टिक के डंडे से मारपीट की। उन्हें के हाथ -पैर में चोटे आई है। पूरी घटना के दौरान राजू और सक्कू नामक दो व्यक्ति वहाँ मौजूद थे। पुलिस ने सचिन के खिलाफ आईपीसी की धारा 323 और 504 के तहत मामला दर्ज कर लिया है। दूसरी तरफ व्यापारी के साथ हुई मारपीट के लेकर भोपाल व्यापारी संघ आक्रोशित है। वे बड़ी संख्या में थाने के पास एकत्रित हुए। साथ ही अपराधि के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग भी की है।
भोपाल से रवि कुमार की रिपोर्ट


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News