Bhopal News : कोर्ट परिसर में बढ़ रही वाहन चोरी की घटना से वकीलों में गुस्सा, पुलिस के खिलाफ किया प्रदर्शन

आक्रोशित वकीलों ने पुलिस की निष्क्रियता के खिलाफ जिला न्यायाधीश (DJ) को एक ज्ञापन सौंपा, ज्ञापन में पुलिस को 7 दिन का अल्टीमेटम दिया गया है, इन सात दिनों में यदि पुलिस वाहन चोर नहीं पकड़ती है तो उग्र आंदोलन किया जायेगा

Atul Saxena
Published on -
Bhopal lawyer protest

Bhopal News : भोपाल के जिला एवं सत्र न्यायालय परिसर में खड़े वाहनों पर चोरों की नजर जम गई है, यहाँ पिछले एक महीने में आठ दो पहिया वाहन चोरी हो चुके हैं, लगातार बढ़ रही वाहन चोरी की घटना से वकीलों में गुस्सा है, आक्रोशित वकीलों ने आज जिला न्यायालय परिसर स्थित पुलिस चौकी के बाहर प्रदर्शन किया और DJ के एक ज्ञापन सौंपा।

जिला कोर्ट परिसर वाहन चोरों के निशाने पर 

राजधानी भोपाल का जिला एवं सत्र न्यायालय परिसर यानि डिस्ट्रिक कोर्ट परिसर इन दिनों वाहन चोरों के निशाने पर है, यहाँ आये दिन गाड़ियों की चोरी हो रही है और पुलिस ना तो चोरी रोक पा रही है और ना ही चोरों को पकड़ पा रही है, इससे नाराज वकीलों ने आज पुलिस के खिलाफ खोला मोर्चा खोल दिया।

पिछले एक महीने में 8 वाहन हुए चोरी 

वकीलों ने कोर्ट परिसर स्थित पुलिस चौकी (थाना एमपी नगर) पर प्रदर्शन किया और वहां रघुपति राघव भजन गाया, नाराज वकीलों ने कहा कि पिछले एक महीने में कोर्ट परिसर से 8 वाहन चोरी हो चुके हैं लेकिन पुलिस के भी वाहन बरामद नहीं कर पाई और ना ही चोर को पकड़ पाई , उन्होंने कहा कि आज फिर एक वाहन फिर चोरी हो गया।

वकीलों का आरोप, पुलिस की मिली भगत से हो रही चोरी 

वकीलों ने आरोप लगाया कि चोरों पर मेहरबानी देखते हुए कहा जा सकता है कि पुलिस ही ये चोरियां करवा रही है, वकीलों ने कहा कि पहले तय हुआ था कि कोर्ट परिसर में केवल वकीलों के ही वाहन पार्क होंगे लेकिन यहाँ अब कोई भी अपनी गाड़ी रख देता है।

वकीलों ने पुलिस को दिया 7 दिन का अल्टीमेटम 

आक्रोशित वकीलों ने पुलिस की निष्क्रियता के खिलाफ जिला न्यायाधीश (DJ) को एक ज्ञापन सौंपा, ज्ञापन में पुलिस को 7 दिन का अल्टीमेटम दिया गया है, इन सात दिनों में यदि पुलिस वाहन चोर नहीं पकड़ती है तो उग्र आंदोलन किया जायेगा, उधर पुलिस का कहना है कि वाहन चोरों को पकड़ने के प्रयास जारी हैं जल्दी ही सफलता मिलेगी।


About Author
Atul Saxena

Atul Saxena

पत्रकारिता मेरे लिए एक मिशन है, हालाँकि आज की पत्रकारिता ना ब्रह्माण्ड के पहले पत्रकार देवर्षि नारद वाली है और ना ही गणेश शंकर विद्यार्थी वाली, फिर भी मेरा ऐसा मानना है कि यदि खबर को सिर्फ खबर ही रहने दिया जाये तो ये ही सही अर्थों में पत्रकारिता है और मैं इसी मिशन पर पिछले तीन दशकों से ज्यादा समय से लगा हुआ हूँ.... पत्रकारिता के इस भौतिकवादी युग में मेरे जीवन में कई उतार चढ़ाव आये, बहुत सी चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बाद भी ना मैं डरा और ना ही अपने रास्ते से हटा ....पत्रकारिता मेरे जीवन का वो हिस्सा है जिसमें सच्ची और सही ख़बरें मेरी पहचान हैं ....

Other Latest News