Bhopal News : ताला तोड़कर 6 लाख का माल पार कर गए चोर

indore news

Bhopal News : मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल और उसके आसपास के उपनगर में चोरी व लूट की घटनाएं अब आम हो गई है। पिछले दिनों जहां लोहा और सीमेट कारोबारी की दुकान पर 6 लूटेरे आए और लूट की घटना को अंजाम देने की सोच रहे थे, तभी व्यापारी ने सूझबूझ दिखाते हुए इस घटना को होने से रोक दिया। वहीं बुधवार को लालघाटी स्थिति टाटा शोरूम के पीछे चोरों ने अपनी करतूत दिखाकर एक मकान के ताले तोड़े और अंदर दाखिल होकर 6 लाख की चोरी की घटना को अंजाम दिया।

यह है पूरी घटना

बता दें कि मकान मालिक रविन्द्र मोटवानी ने कोहिफिजा पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कर बताया कि बुधवार रात सवा 8 बजे से साढ़े 9 बजे के बीच हुई। इस दौरान परिवार डॉक्टर के पास इलाज कराने गया हुआ था। व्यापारी के घर पर लगे सीसीटीवी कैमरे में एक संदिग्ध कैद हुआ है। पुलिस उसकी पहचान करने में जुटी है। रविन्द्र मोटवानी की लखेरापुरा में भूमिका फैशन नाम से कपड़े की दुकान है। उन्होंने बताया कि 3 मई को रात करीब साढ़े 9 बजे मेरे पास मेरी मम्मी आशा मोटवानी का फोन आया। उन्होंने बताया की घर में चोरी हो गई है। में तुरंत ही घर पहुंचा। भाभी रीत ने बताया कि रात करीब सवा 8 बजे मम्मी का इलाज कराने डॉक्टर राम बेलानी के पास कृष्णा प्लाजा लेकर गए थे। घर में ताला लगा था। रात करीब साढ़े 9 बजे जब हम लोग घर वापस आए तो देखा की गेट पर ताला टूटा हुआ है। अंदर की लाइटें जल रही हैं। अंदर पूरा सामान बिखरा हुआ पड़ा था। रीत के कमरे में रखी अलमारी का ताला टुटा हुआ था। उसमें रखी एक सोने की चेन 22 ग्राम वजनी, सोने का पैंडल 8 ग्राम, दो जोड़ी कान के टाप्स (12 ग्राम), करीब 4 लाख रुपए नकदी बदमाश चोरी कर ले गए।

सीसीटीवी में कैद हुआ संदिग्ध

व्यापारी के घर में सीसीटीवी कैमरा लगा है। उसमें एक संदिग्ध सफेद रंग की शर्ट पहने हुआ उनके घर में दाखिल होते हुए दिख रहा है। हालांकि अभी आरोपी की पहचान नहीं हो सकी है। पुलिस फुटेज के आधार पर संदेही की पहचान करने में जुटी है।
भोपाल से रवि कुमार की रिपोर्ट


About Author
Amit Sengar

Amit Sengar

मुझे अपने आप पर गर्व है कि में एक पत्रकार हूँ। क्योंकि पत्रकार होना अपने आप में कलाकार, चिंतक, लेखक या जन-हित में काम करने वाले वकील जैसा होता है। पत्रकार कोई कारोबारी, व्यापारी या राजनेता नहीं होता है वह व्यापक जनता की भलाई के सरोकारों से संचालित होता है। वहीं हेनरी ल्यूस ने कहा है कि “मैं जर्नलिस्ट बना ताकि दुनिया के दिल के अधिक करीब रहूं।”

Other Latest News