रोड कॉन्ट्रैक्टर के ठिकानों पर IT का छापा, 1.70 करोड़ कैश मिला, नोट गिनने लेनी पड़ी कई मशीनों की मदद

bhopal-raid-by-income-tax-team-road-contractor-nillay-jain-gets-crore-cash

भोपाल।

मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में आयकर विभाग ने बड़ी कार्रवाई की है। टीम ने बुधवार सुबह रोड कांट्रेक्टर निलय जैन के तीन ठिकानों पर छापा मारा है। टीम ने जरुरी दस्तावेजों के साथ 1.70 करोड़ कैश और करीब 70 लाख रुपए कीमत की ज्वेलरी बरामद की है। बताया जा रहा है कि जैन ने पैसा जगह जगह छुपा कर रखा था, जिससे गिनने के लिए टीम को को कई नोट मशीन की मदद लेनी पड़ी। तब जाकर घंटो बाद नोटों की सही गिनती हो सकी। फिलहाल कार्रवाई जारी है।जैन मप्र सरकार के प्रोजेक्ट में काम करने वाले अग्रणी ठेकेदार माने जाते हैं। वे कई अहम प्रोजेक्ट पर काम कर चुके हैं।  पूर्व मुख्यमंत्री के गांव तक की सड़क का ठेका इन्हें ही मिला था।विधानसभा चुनाव के बाद ये बड़ी कार्रवाई मानी जा रही है।अभी जांच में संपंति का आकंड़ा बढ़ने की उम्मीद है।

दरअसल, आयकर की टीम को जैन के अघोषित आय की जानकारी मिली थी। जिसके बाद टीम ने आज तड़के सुबह जैन के भोपाल के अरेरा कॉलोनी स्थित घर पर छापेमार कार्रवाई। पहले तो टीम आलीशान बंगले को देखकर ही भौचक्की रह गई, फिर जांच शुरु की। प्रारंभिक जांच में टीम ने 1.70 करोड़ कैश और करीब 70 लाख रुपए कीमत की ज्वेलरी जब्त की। विभाग को जैन के पांच लॉकर की भी जानकारी मिली है।बताया जा रहा है कि जैन ने घर मे जगह जगह पैसे छुपे रखे थे ,जिसके चलते टीम को कड़ी मशक्कत करनी पड़ी। वही नोटों के बंटलों को गिनने के लिए टीम को मशीन का इस्तेमाल करना पड़ा। करीब तीन चार मशीनों की सहायता से घंटों बाद नोटों को गिना जा सका।फिलहाल कार्रवाई जारी है, टीम अन्य जरुरी दस्तावेजों को खंगालने में लगी हुई है।

बताया जा रहा है कि इनका शहर में जमीन का बड़ा कारोबार है।जैन मप्र सरकार के प्रोजेक्ट में काम करने वाले अग्रणी ठेकेदार माने जाते हैं। वे कई अहम प्रोजेक्ट पर काम कर चुके हैं।  पूर्व मुख्यमंत्री के गांव तक की सड़क का ठेका इन्हें ही मिला था। जैन के यहां मिले दस्तावेजों में बड़े पैमाने पर कैश में लेनदेन के प्रमाण मिले हैं। कई जमीन की खरीद भी नकदी में की गई। विभाग का अनुमान है कि इसके जरिए जैन ने करीब 20 करोड़ रुपए की आय छुपाई है।विभाग को जैन के पांच लॉकर की भी जानकारी मिली है चारों लॉकर खुलने के बाद जब्त नकदी और ज्वैलरी का अनुपात और बढ़ सकता है।