पानी रे पानी, अब भोपाल में आई मतदान के लिए यह मांग !

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। भोपाल में कर्मचारी नेता ने प्रशासन से मतदान करने जाने के लिए अजीबोगरीब मांग की है, हालांकि इन दिनों भोपाल में बने हालातों को देखते हुए उनकी मांग कुछ हद तक बिल्कुल जायज नजर आ रही है, दरअसल नगरीय निकाय चुनाव के पहले चरण की वोटिंग 6 जुलाई को होनी है, जिसके लिए तमाम तैयारियां लगभग पूरी की जा चुकी है,  पहले चरण में भोपाल इंदौर जबलपुर ग्वालियर खंडवा बुरहानपुर छिंदवाड़ा उज्जैन सागर सिंगरौली और सतना नगर निकाय में चुनाव का आयोजन 6 जुलाई को किया जाएगा। लेकिन भोपाल के साथ ही अन्य शहरों की बात की जाए तो मानसून की शुरुआत में ही यहाँ हुए जलप्लावन ने नगर निगम के इंतजाम और सरकार के वादों और दावों की पोल खोल दी है।

यह भी पढ़ें… मध्यप्रदेश में आज थमेगा चुनावी शोर, नगरीय निकाय चुनाव में पहले चरण में 6 जुलाई को वोटिंग

मानसून ने प्रदेश में दस्तक दे दी है और पूरे प्रदेश में इसका असर नजर आ रहा है, एक के बाद एक बड़े शहरों में हुई बारिश और फिर जलप्लावन ने लोगों को परेशान कर दिया, ग्वालियर, जबलपुर, इंदौर के साथ ही भोपाल में भी मानसून की बारिश ने लोगों को गर्मी से राहत दी लेकिन दूसरी तरफ ज्यादा परेशान कर दिया, इन शहरों में न सिर्फ नाले ओवरफ्लो हुए बल्कि लोगों के घरों में पानी भर गया, भोपाल में भी हालत बद से बदतर हो गए, लोगों के घरों में बारिश का पानी तो भरा वही कुछ इलाकों में नगर निगम की लापरवाही से पाइपलाइन टूटने के बाद जलप्लावन के हालात बन गए, सड़क टूट गई, इसी से परेशान कर्मचारी नेता उमाशंकर तिवारी ने अब अपील की है कि राज्य निर्वाचन आयोग नाव का प्रबंध भी करे, ताकी ज्यादा से ज्यादा हो सके मतदान हो सकें, मानसून अलर्ट को देखते हुए बरसात के कारण जलभराव की स्थिति भोपाल शहर में बन रही है ज्यादा जलभराव होने पर शहर में नाव का भी इंतजाम किया जाए ताकि लोग नाव में बैठकर ,मतदान कराने वाले व मतदान करने वाले मतदान केंद्र हालांकि यह कर्मचारी नेता का यह कटाक्ष कही न कही सरकार के दावों को आईना दिखा रहा है।