mp board

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मप्र माध्यमिक शिक्षा मंडल (MP Board of Secondary Education) ने 10वीं और 12वीं में फेल हुए छात्रों को बड़ी राहत दी है।अब 10वीं और 12वीं में फेल हो चुके छात्रों (Student) को दोबारा नामांकन (Enrollment) कराने की जरूरत नहीं है, वे सीधे फॉर्म भर सकते हैं। इसके लिए उन्हें www.mpbse.nic.in पर लॉग इन कर परीक्षा का आवेदन पत्र भरना होगा।

दरअसल, माध्यमिक शिक्षा मंडल (MPBSE) ने वर्ष 2020-21 के लिए 10वीं और 12वीं की परीक्षा के फाॅर्म भरवाने की प्रक्रिया जारी है। माध्‍यमिक शिक्षा मंडल (MP Board) के जारी निर्देशों के तहत 10वीं और 12वीं में फेल होने वाले विद्यार्थियों को पुन: नामांकन करने की आवश्यकता नही, ऐसे विद्यार्थी सीधे परीक्षा फॉर्म (Exam form) भरेंगे। पूर्व में अनुत्तीर्ण विद्यार्थी विषय परिवर्तन के साथ दोबारा परीक्षा देने के लिए सीधे फॉर्म भर सकते है। फॉर्म भरते समय पूर्व नामांकन में दी गई जानकारी स्कूल के माध्यम से सबमिट कराई जा सकेगी।छात्रों को परीक्षा देने के लिए सीधे परीक्षा फॉर्म भरते समय पूर्व नामांकन में दी गई जानकारी भरना होगा।

10वीं और 12वीं की दोबारा परीक्षा देने वाले विद्यार्थियों की पुरानी अंकसूची व नई अंकसूची, जिसमें ज्यादा नंबर होंगे, उसे मान्य किया जाएगा। इसके साथ ही अन्य राज्य व बोर्ड से उत्तीर्ण विद्यार्थी दसवीं-बारहवीं परीक्षा में पुन: शामिल हो सकते हैं। नवमीं-ग्यारहवीं में माशिमं में नामांकन नहीं कराया है, तो भी ऐसे विद्यार्थी मंडल की दसवीं-बारहवीं परीक्षा में नियमित विद्यार्थी के रूप में शामिल हो सकते है। हालांकि उन्‍हें परीक्षा में शामिल होने के पहले नामांकन कराना अनिवार्य होगा।परीक्षा परिणाम प्राप्त होने पर संबंधित विद्यार्थी को पूर्व में जारी अंकसूची को जमा कर नई अंकसूची जारी की जाएगी। जमा अंकसूची में किसी विषय विशेष में पूर्व परीक्षा तथा वर्तमान परीक्षा दोनों में से जिसमें अधिक अंक होंगे उसे मान्य कर दर्शाया जावेगा। विद्यार्थी को जारी अंकसूची में उत्तीर्ण का वर्ष मान्य कर दर्शाया जाएगा।

सिलेबस में भी कटौती
वही एमपी बोर्ड ने 10वीं और 12वीं के छात्रों के सिलेबस में भी 30 प्रतिशत तक की कटौती की है। सभी विषयों का अपडेट पैटर्न मध्य प्रदेश बोर्ड की ऑफिसियल वेबसाइट http://mpbse.nic.in/latest-circulars.html पर जल्द जारी किया जाएगा। इसमें मुख्य रूप से 9वीं-11वीं में पढ़ चुके पाठ्यक्रम को 10वीं -12वीं में हटाया गया है। यह कटौती इसी सत्र के लिए रहेगी।प्रतियोगी परीक्षाओं को ध्यान में रखते हुए यूनिट को कम किया गया है।