bike-thieve-arrested-in-bhopal-

भोपाल। स्पोर्ट्स बाइक का क्रेस और इंप्रेशन के लिए बदल-बदल कर दो पहिया वाहनों को चलाने की दीवानगी ने युवाओं को चोर बना दिया। खास बात यह है कि वाहन चोर गिरोह का मास्माइंड एक नाबालिग लड़का है। आरोपियों की निशानदेही पर पुलिस ने 11 चोरी के वाहन जब्त किए हैं। बदमाश वाहनों को बचने की कोशिश करते गिर तार किए गए हैं। पुलिस पूछताछ में चोरों ने बताया कि वह बाइक चोरी के बाद में स्टंट की प्रेक्टिस करते थे। आरोपियों के कब्जे से जब्त वाहनों की कीमत सात लाख रूपए बताई जा रही है।

जानकारी के अनुसार मिसरोद थाने का स्टॉफ रविवार को 11 मील तिराहे पर चैकिंग कर रहा था। इस दौरान पुलिस टीम को मुखबिर से सूचना मिली कि 11 मील के आगे चार संदिग्ध युवक खड़े हैं, जो किसी बड़ी वारदात को अंजाम देने की तैयारी कर रहे हैं। इस सूचना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने घेराबंदी कर चारों को दबोच लिया। तलाशी लेने पर उनके पास मोटर सायकिल की मास्टर चाबी, पेंचकस समेत अन्य औजार मिले। थाने लाकर पूछताछ करने पर उन्होंने वाहन चोरी की कई वारदातों को अंजाम देना स्वीकार किया। इस पर पुलिस ने आरोपी रामेश्वर (19) निवासी अर्जुन नगर एमपी नगर और सौरभ कुशवाह (18) निवासी जाटखेड़ी मिसरोद और दोनों नाबालिगों को गिर तार कर लिया गया। पुलिस ने आरोपियों की निशानदेही पर सात लाख रुपये कीमत के कुल ग्यारह दोपहिया वाहन जब्त किए हैं। इन वाहनों को चारों ने अलग-अलग ठिकानों पर छिपा कर रखा था। पुलिस ने बताया कि चारों आरोपी केटरिंग समेत अन्य स्थानों पर मजदूरी करते हैं और मौका मिलने पर वाहन चोरी कर लेते हैं। पिछले दस-बारह दिनों के अंदर उन्होंने कई वाहन चोरी कर लिए, जिसके बाद पुलिस ने उन्हें दबोच लिया। आरोपियों ने चोरी के वाहनों से स्टंट की प्रेक्टिस करने की बात को स्वीकार किया है। 

– पांच वाहनों के मालिक मिले, बाकी की तलाश जारी

एएसआई बहादुर सिंह पटेल ने बताया कि बदमाशों के पास से जो वाहन बरामद किए गए हैं, उनके मालिकों के नाम संतोष निक्कम अमरावद खुर्द, सुभाष प्रसाद सारणी बैतूल, के राजू हबीबगंज गोविंदपुरा, प्रेमबाबू सोनी नरसिंहपुर, गौरव जैन बीना सागर, राजू पटेल बागमुंगालिया, रामस्वरूप अहिरवार मंडीदीप, सचिन आनंद मिसरोद, अंग्रेज मीना बंगरसिया, सारिका सूर्यवंशी सौरभ कालोनी चांदबड़ और आरके मिश्रा इटारसी होशंगाबाद बताए गए हैं। इनमें से पांच वाहनों के मालिकों का पुलिस से संपर्क हो गया, जबकि अन्य छह मालिकों से संपर्क करने का प्रयास किया जा रहा है।

नाबालिग करता था रैकी

वाहन चोरी में पकड़ा गया एक नाबालिग लड़का गिरोह का मास्टर माइंड बताया गया है। वह अपने साथी के साथ रैकी करता था और दूसरे साथी मास्टर चाबी से वाहन का लॉक खोलते थे। वाहन चोरी करने के बाद वे नंबर प्लेट बदलकर चलाते थे और फिर सूने मकानों के पास छिपा कर रख देते थे। बदमाश एक भी वाहन को बेच नहीं पाए थे। इन्हें बेचने की फिराक में बदमाश ग्राहकों की तलाश कर रहे थे। तभी मुखबिर की नजरों में आए और पुलिस तक सूचना चली गई।