भाजपा ने की आयोग से मंदसौर कलेक्टर पर कार्यवाही की मांग

BJP-complaint-in-election-commission-bhopal

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के एक प्रतिनिधिमंडल ने प्रदेश कांग्रेस सरकार द्वारा आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन की शिकायत निर्वाचन आयोग से की है। मुख्य निर्वाचन आयुक्त एवं प्रदेश के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी को की गई शिकायतों के माध्यम से पार्टी ने दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। प्रतिनिधिमंडल में वरिष्ठ नेता शांतिलाल लोढ़ा और ओमशंकर श्रीवास्तव शामिल थे।

कलेक्टर के निर्देश पर ऋण माफी पत्रक जारी हो रहे

भारतीय जनता पार्टी ने मुख्य चुनाव आयुक्त एवं मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी भोपाल को की गई शिकायत में कहा है कि मप्र की कांग्रेस सरकार लगातार आदर्श आचार संहिता का सार्वजनिक रूप से उल्लंघन किए जा रही है तथा मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी द्वारा जानकारी मंगाने के पश्चात भी सहकारी विभाग के प्रमुख सचिव अजित केसरी एवं आयुक्त सहकारिता दोनों मिलकर कांग्रेस नेताओं के इशारे पर फाईल रोके रखी है। कई बार स्मरण पत्र प्रेषित करने पर भी जवाब नही देते है लेकिन निर्वाचन कार्यालय का मौन रहना और जानकारी नही देने वाले अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही न करना परोक्ष रूप से सहयोग करना है। मंदसौर प्रौद्यानिकी कृषि सांख सह संस्था मर्या अमलावद शाखा दलौदा जिला मंदसौर के अनेक कृषकों के ऋण खाते में 31 मार्च 2019 के जबकि आदर्श आचार संहिता पहले ही प्रभावशील हो चुकी थी कलेक्टर मंदसौर द्वारा जानबूझकर कांग्रेस पार्टी के इशारे पर राशि समायोजित की गई। ऋण खाते में इस तरह प्रशासन की और से राशि जमा करके ऋण को पटाया और कृषकों को यह बताया कि यह फायदा कांग्रेस पार्टी द्वारा दिलाया गया है। स्पष्टत: कर्तव्य की अवहेलना है वही आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन है। इस संबंध में ऋण समायोजन के पश्चात कृषकों को मंदसौर कलेक्टर के निर्देश अनुसार ऋण माफी पत्रक जारी हो रहे है जिसके वीडियों, छायाचित्र भी प्रस्तुत किए गए है।

प्रतिनिधिमंडल ने कहा है कि अधिकारी और समिति के पदाधिकारी जिन्होने रसीदें जारी की। बैंक अधिकारी जिन्होने ऋण का समायोजन किया, और अधिकारियों द्वारा जारी किए गए आदेश एवं निर्देश का खुलेआम उल्लंघन किया। प्रतिनिधिमंडल ने चुनाव आयोग से मांग करते हुए कहा है कि लिप्त अधिकारी विशेषकर कलेक्टर, प्रमुख सचिव अजित केसरी एवं आयुक्त सहकारिता विभाग पर अपने कर्तव्य की अवेहलना करने एवं आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन की कार्यवाही की जाए।