रणदीप सुरजेवाला पर बीजेपी का पलटवार, कांग्रेस के भ्रामक आकंड़ों से रहें सावधान

Avatar
Published on -

BHOPAL NEWS : मध्य प्रदेश कांग्रेस के प्रभारी रणदीप सुरजेवाला ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर बयानी हमला बोला है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान रेडियो गप्पिस्तान है। गरीब बिजली उपभोक्ताओं को उन्होंने धोखा दिया है। उन्होंने साढ़े तीन लाख उपभोक्ताओं का डेटा पेश करते हुए यह आरोप लगाए।  जिसके बाद बीजेपी ने पलटवार करते हुए कांग्रेस पर जवाबी हमला बोला है, मध्यप्रदेश बीजेपी के मीडिया प्रदेश प्रभारी आशीष अग्रवाल ने सोशल मीडिया अकाउंट X पर बयान जारी करते हुए कहा कि कांग्रेस के भ्रामक आकंड़ों से रहें सावधान, क्योंकि रणदीप सुरेजवाला; कमलनाथ और दिग्विजय सिंह से हो गए परेशान, उन्होंने लिखा है कि कपड़ा फाड़ कांग्रेस बेचारी, अब फर्जी आंकड़ों की कर रही कारगुजारी, कांग्रेस का विरोध सड़कों पर, गलत आंकड़े जुबां पर, जनता को राक्षस और बेटियों पर सवाल करने वाले मध्यप्रदेश को न करें बदनाम।

दी समझाइश 

आशीष अग्रवाल ने सोशल मीडिया अकाउंट X  ने लिखा कि-सुरजेवाला जी, कांग्रेस में टिकट वितरण के बाद कपड़ा फाड़ और पुतला कोई विपक्ष दल नहीं फूंक रहा, बल्कि कांग्रेस के नेता ही फूंक रहे हैं। आज आपने प्रदेश के आकंड़ों को गलत ढंग से पेश कर जनता को गुमराह करने की कोशिश की है। जब आप पीसीसी कार्यालय से बाहर निकले तो आपको अपनी गाड़ी बदलकर दूसरी गाड़ी का सहारा लेना पड़ा। कांग्रेस की जब ऐसी मनोस्थिति हो तो गलत आकंड़ों को रखकर लोगों को गुमराह करना माना जा सकता है कि जल्दबादी या बिना होमवर्क के हो गया होगा। उसमें भी लगता है गुट या गिरोह चल रहा है। सारे आंकड़े आपको गलत बताकर आपकी जगहंसाई की जा रही है। आपको 2003 और 2023 का मध्यप्रदेश देखना चाहिए।

पूछे सवाल 

अब देखिए आकंड़ों की जुबानी, प्रदेश की विकास की कहानी। आपके सवालों का सवाल दर सवाल सही उत्तर।

प्रश्न 1. क्या एक किलोवॉट तक के 20 लाख गरीब उपभोक्ताओं में से 1 उपभोक्ता की एक फूटी कौड़ी भी माफ हुई?

उत्तर- मध्य प्रदेश में कुल 1.25 करोड़ घरेलू उपभोक्ता हैं जिनमे से 1 किलोवॉट तक के 84.23 लाख ग़रीब उपभोक्ताओं (कुल घरेलू उपभोक्ता के 67 प्रतिशत) के 31 अगस्त तक के बिजली बिल अस्थगित किए गए हैं। अस्थगित राशि 4718 करोड़ रुपए हैं। इसमें मध्य क्षेत्र के 24.60 लाख उपभोक्ताओं के 2527 करोड़ रुपये, पश्चिम क्षेत्र के 27.14 लाख उपभोक्ताओं के 1110 करोड़ रुपये एवं पूर्व क्षेत्र के 32.49 लाख उपभोक्ताओं के 1082 करोड़ रुपये के बिजली बिल स्थगित किए गये।

प्रश्न 2. क्या एक किलोवॉट तक के उपभोक्ताओं के बिजली के बिल अस्थगित करने के आदेश जारी करने के पहले षड्यंत्रपूर्वक तरीके से उपभोक्ताओं का बिजली कनेक्शन का भार दो किलोवॉट कर दिया गया?

उत्तर- ऐसा कोई अनुचित कार्य नहीं हुआ।

प्रश्न 3. क्या प्रदेश के लाखों गरीब परिवारों को उनके कनेक्शन के भार को बढ़ाने के पहले उन्हें सूचित किया गया था, या उनकी सहमति ली गई थी, या उनके लोड का आकलन किया गया था?

उत्तर- ऐसा कोई अनुचित कार्य नहीं हुआ अतः सहमाति का प्रश्न ही नहीं उठता।

प्रश्न 4. क्या ये लाखों गरीब परिवार दो किलोवॉट के कनेक्शन के साथ गरीबी रेखा की परिधि से षडयंत्रपूर्वक तरीके से बाहर कर दिए गए हैं?

उत्तर- प्रश्न अप्रासंगिक है।

प्रश्न 5. क्या शिवराज सरकार की सारी घोषणाएं ऐसे ही धोखे और झूठ की बुनियाद पर रखी गई हैं?

उत्तर- प्रश्न अप्रासंगिक है।

भाजपा सरकार मतलब सुखद राज।
कांग्रेस का राज मतलब, सब बदहाल सिर्फ परिवारवाद खुशहाल।


About Author
Avatar

Sushma Bhardwaj

Other Latest News