दिग्विजय के नाम से सदमे में भाजपा, मुकाबले के लिए नहीं मिल रहे उम्मीदवार

-BJP-is-in-shock-with-Digvijay's-name-said-govind-singh-

भोपाल| कांग्रेस ने सबसे कठिन सीट से पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह को मैदान में उतारा है| जिसके बाद से ही देश की राजनीति में भोपाल सीट सुर्ख़ियों में आ गई है| इसके पीछे कई कारण है| दिग्विजय 16 साल बाद कोई चुनाव लड़ रहे हैं| 2003 में सत्ता से बेदखल होने के बाद लम्बे संगर्ष के बाद दिग्विजय की वापसी हुई है| जिसके चलते देश भर की नजर इस सीट पर होने वाले मुकाबले पर है| वहीं अपने मजबूत गढ़ में ही भाजपा प्रत्याशी तय नहीं कर पा रही है| दिग्विजय को टिकट मिलने के बाद बीजेपी में तेजी से समीकरण बदले और कई नाम चर्चा में आ गए हैं| इस मामले पर कमलनाथ सरकार में सहकारिता मंत्री गोविंद सिंह ने चुटकी ली है| 

मंत्री गोविन्द सिंह ने कहा जब से भोपाल से कांग्रेस ने दिग्विजय सिंह को प्रत्याशी बनाया है। बीजेपी बेहोशी की हालत में है। सदमे से उबर नही पा रही है कि आखिर अब क्या करे। बैचैनी उजागर कर रही है कि बीजेपी अब यह सीट जीत नही पाएगी। उन्होंने कहा भाजपा में घबराहट है और इसीलिए अलग अलग उम्मीदवारों को आयात कर रही है| वहीं ज्योतिरादित्य सिंधिया को इंदौर से चुनाव लड़ने की उठ रही मांग पर मंत्री गोविन्द सिंह ने कहा सिंधिया तो कहीं से भी लड़ेंगे उनकी जीत निश्चित है| वे विदिशा से भी लड़ें तो जीत सकते हैं, यहाँ भी उनका अच्छा प्रभाव है| इसके अलावा एन्टी सेटेलाइट मिसाइल पर मंत्री गोविंद सिंह ने कहा मोदी जी को झूठ बोलने का स्वर्ण पदक मिलना चाहिए इस मामले में पूरे विश्व मे उनका कोई सानी नही। 

तय नहीं हो पा रहा नाम 

भोपाल में कांग्रेस प्रत्याशी दिग्विजय सिंह की टक्कर का प्रत्याशी तलाशने के लिए बीजेपी में माथापच्ची जारी है| फिलहाल पार्टी भोपाल सीट से शिवराज के अलावा पूर्व सीएम उमा भारती और केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के नाम पर विचार कर रही है। पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष राकेश सिंह, केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान के बीच अलग-अलग चर्चा हुई। बची हुई सीटों से लेकर डैमेज कंटोल पर भी विचार किया गया। पहले यहां से कई स्थानीय नेता दावेदारी कर रहे थे| लेकिन दिग्विजय के सामने आने के बाद अब बड़े चेहरे की तलाश की जा रही है|