भाजपा नेता हितेश वाजपेयी ने बोला दिग्विजय पर हमला, पूछे यह सवाल

-BJP-leader-Hitesh-Vajpayee-attack-on-Digvijay-singh-asked-this-question

भोपाल| पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने भोपाल से प्रत्याशी बनाये जाने के बाद पहली बार प्रेस कॉन्फ्रेंस की| जिसमे उन्होंने मध्य प्रदेश में भाजपा सरकार के 15 साल को लेकर शिवराज सिंह चौहान और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर भी जमकर हमला बोला| दिग्विजय के आरोपों पर सियसत गरमा गई है| अब भाजपा नेता हितेश वाजपेयी ने दिग्विजय पर बयानों की बौछार की है| 

दिग्विजय की प्रेस कॉन्फ्रेंस पर उन्होंने चुटकी लेते हुए कहा दिग्विजय सिंह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस ली या भाषण दिया, 100 विषय पर बोले जो सब पुराने हैं| वहीं उन्होंने दिग्विजय से कई सवाल पूछे| उन्होंने कहा दिग्विजय के मोदी को लेकर दिए बयान पर कहा दिग्विजय सिंह ने किस दबाव में अपनी नयी शादी छुपकर की, Treasure आइलैंड मामले में किसका नाम है, 300 करोड़ का लोन दिवालिया कंपनियों को किसके कहने पर लुटा दिया गया था 2002 में , ऐसे कौन से राजनैतिक पाप थे जो 10 साल का संन्यास लिया था और 15 साल बाद वापस आये, उनके पिता ने जनसंघियों का समर्थन नगर पालिका अध्यक्ष के लिए क्यों लिया था, अपने बेटे जयवर्धन को तत्कालीन मुख्यमंत्री के पैर छूकर आशीर्वाद लेने क्यों गए थे,  भगवा आतंकवाद की कल्पना करने वाले भगवा ध्वज की शरण में किस दर से आ रहे हैं,  100 दिन में ‘कायरनाथ’ सरकार कोई भी घोटाला साबित क्यों नहीं कर पायी, वाजपेयी ने कहा दिग्विजय के बेटे जयवर्धन ने सिंहस्थ खरीदी के जवाब को सरकार की तरफ से क्लीन चिट क्यों दी, बयानों की राजनीती से आआगे बढ़कर FIR कराने से किसने रोका है|  

वाजपेयी ने राहुल गाँधी की न्यूनतम आय योजना पर निशाना साधते हुए कहा 15 अगस्त 2013 को लाल किले की प्राचीर से “महान अर्थशास्त्री” मनमोहन सिंह ने कहा था कि हम “81 करोड़ अत्यधिक गरीब” लोगों के लिए खाद्यान्न सुरक्षा योजना लाए हैं… (ये बात और है कि काँग्रेस ने इस देश पर 50 वर्ष से अधिक शासन किया, फि�� भी इस 81 करोड़ गरीब वाला आँकड़ा सारे दुनिया को बताते हुए मनमोहन जी को शर्म भी नहीं आई| अब खास बात 2013 में मनमोहन सिंह के अनुसार जो 81 करोड़ गरीब थे वह कल राहुल गांधी के अनुसार घटकर केवल 5 करोड़ रह गए (जिन्हें 12,000 रूपए दिए जाने हैं) यानी मोदी जी की सबसे बड़ी उपलब्धि यह रही कि अपने पाँच वर्षीय शासन के दौरान, वे लाल किले से “आधिकारिक” रूप से घोषित “81 करोड़ गरीबों की संख्या को घटाकर, 5 करोड़ तक ले आए (जिसे राहुल गांधी द्वारा प्रमाणित भी किया गया).|