सिंधिया बोले, ‘मैंने खुद को बीजेपी को सौंपा, अब यही मेरा परिवार’

भोपाल| कांग्रेस (Congress) छोड़ भाजपा (BJP) में आये राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) ने एक बार फिर अपने विरोधियों पर बड़ा पलटवार किया है| सिंधिया ने कहा ‘चाहे मेरे पूज्य पिताजी हो या मैं, हमने कभी भी राजनीति में छल कपट का सहारा नहीं लिया, इसीलिए लोग हम पर अनर्गल आरोप लगाते है।

दरअसल, कांग्रेस छोड़ने के बाद से ही सिंधिया को लेकर विपक्षी दल के नेता उन्हें धोखेबाज, उनके परिवार को देश से गद्दारी करने वाला जैसे गंभीर आरोप लगा रहे हैं| इन आरोपों को लेकर सिंधिया ने ट्वीट कर हमला बोला है| उन्होंने लिखा है कि ‘चाहे मेरे पूज्य पिताजी हों या मैं, हमने कभी भी राजनीति में छल-कपट का सहारा नहीं लिया, इसीलिए लोग हम पर अनर्गल आरोप लगाते हैं। मैंने खुद को पूरे विश्वास के साथ भारतीय जनता पार्टी को सौंप दिया है। अब यही मेरा परिवार है’।

इन कौरवों ने जनता का पैसा लूटा है
सिंधिया ने सोमवार को मुंगावली विधानसभा की वर्चुअल रैली को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने कहा कमलनाथ ने युवाओं को बेरोज़गारी भत्ता तक नहीं दिया। जनता के साथ झूठा आश्वासन देकर सिर्फ और सिर्फ पैसा वसूला है। ऐसी सरकार को सड़क पर लाना हमारी जिम्मेदारी थी। हमारी जिम्मेदारी है कि जिन कौरवों ने जनता का पैसा लूटा है उन्हें इस चुनाव में जमकर सबक सिखाना है।

जनता को कौनसी जोड़ी पसंद
सिंधिया ने कहा कार्यकर्ताओं से अपील है कि की जनता से पूछियेगा कि उन्हें मेरी और शिवराज जी की जोड़ी चाहिए या दिग्विजय – कमलनाथ की बंटाधार जोड़ी? ये चुनाव जनता की प्रतिष्ठा, विकास और प्रगति का मुद्दा है क्योंकि मैं और शिवराज जी ही मुंगावली की जनता के लिये सदा समर्पित रहे हैं| मैं हमेशा सत्य की लड़ाई लड़ता हूं। कभी छल – कपट वाली राजनीति मैंने नहीं की। पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी जी के संकल्प “आर- पार की लड़ाई” को हम आत्मसात कर भाजपा के सभी कार्यकर्ताओं को मिलकर हमें लड़ना है और कांग्रेस को परास्त करना है|