बीजेपी विधायक का चर्चा में पोस्टर, कहा-“पटाखे जरूर फोड़े”

बता दें कि हाल ही में SC ने पटाखों के बैन को लेकर आदेश जारी किया था और सभी राज्यों को उसे कड़ाई से पालन करने के निर्देश भी दिए थे। इधर, रामेश्वर शर्मा का पोस्टर अब चर्चा का विषय बना हुआ है।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। आज सुबह से बीजेपी विधायक (Bjp Mla) रामेश्वर शर्मा (Rameshwar Sharma) का एक पोस्टर न्यूज़ चैनल्स और सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है। जिसमे BJP विधायक ने अपने ही घर के सामने पोस्टर लगवा कर लोगो को धनतेरस और देवउठनी ग्यारस की बधाई दी है और साथ ही जनता से पटाखे चलाने की बात की है। जिसके बाद विपक्षी दलों ने उनके इस पोस्टर पर लिखी हुई बात पर आपत्ति जताई है।

यह भी पढ़ें…इंदौर में पड़ोसियों के बीच जमकर चले लात-घूंसे, मारपीट का Video Viral

बता दें विधायक रामेश्वर शर्मा के मालवीय नगर स्थित बंगले पर उन्होंने एक बहुत ही बड़े पोस्टर के माध्यम से जनता को दीपावली की शुभकामनाएं (Diwali Wishes) देते हुए उनसे पटाखे फोड़ने का आग्रह किया है।

विपक्ष का कहना है एक ओर गृह विभाग (Home Department) ने सभी कलेक्टरों (Collectors) को पटाखे ना फोड़ने का आदेश जारी रखने को कहा है दूसरी ओर विधायक जी लोगों से पटाखे फोड़ने की अपील कर कर रहे हैं । ऐसे में सवाल उठता है कि जनता सरकारी आदेश का पालन करें या विधायक की भावनात्मक अपील को माने।

अभी हाल ही में उच्च न्यायालय ने ने पटाखों के बैन को लेकर एक आदेश जारी किया था जिसमे सभी राज्यों से आदेश का कड़ाई से पालन करने के निर्देश भी दिए थे। ऐसे में रामेश्वर शर्मा का पोस्टर अब चर्चा का विषय बना हुआ है। BJP विधायक द्वारा लगाए गए इस पोस्टर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) और मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj) को भी देखा जा सकता है जिसके बाद अब पोस्टर पर सियासत शुरू हो चुकी है।

कांग्रेस प्रवक्ता अजय यादव ने कहा है कि न्यायालय द्वारा दिए गए आदेश जनता की हित में होते हैं इनका पालन कराना सरकार का कर्तव्य होना चाहिए और पटाखे ना फोड़ के प्रदूषण कम करने के लिए कदम उठाना चाहिए ना कि लोगों से नियम तोड़ने के लिए अपील करना चाहिए।

आपको बता दें सीमा से अधिक प्रदूषण की वजह से मध्य प्रदेश के दो जिलों ग्वालियर एवं सिंगरौली में पटाखे फोड़ने पर कड़ा प्रतिबंध लगाया गया है और आदेश का उलंघन ना हो इसकी निगरानी की जिम्मेदारी उच्च न्यायालय द्वारा राज्य के मुख्य सचिव एवं पुलिस के शीर्ष अधिकारियों को सौंपी गई है। अब देखने वाली बात यह होगी कि आदेश का उल्लंघन करने वालो के खिलाफ क्या कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़ें…Jabalpur News : पुलिस ने धारकों को लौटाए 21 लाख के चोरी और घूमे हुए मोबाइल फोन