MP: बीजेपी ने भी तैयार की भितरघातियों की कुंडली, इन नेताओं के नाम शामिल

BJP-prepare-list-of-leader-who-sabotage-in-loksabha-election

भोपाल। लोकसभा चुनाव का शोर खत्म हो चुका है। उम्मीदवारो को नतीजों का बेसब्री से इंतजार है। एग्जिट पोल के नतीजों के बाद तो कई बीजेपी उम्मीदवारों ने जीत की खुशी में मिठाई भी बांट दी है। लेकिन पार्टी उनकी लिस्ट भी तैयार कर रही है जिन्होंंने लोकसभा चुनाव में पार्टी उम्मीदवारों के पक्ष में काम नहीं किया। या फिर उन्हें भितरघात के चलते प्रभावित किया। कांग्रेस की तरह बीजेपी ने भी अपनी विजिलेंस टीम को मैदान में छोड़ रखा था। जो उम्मीदवारों के साथ कौन कौन चुनाव प्रचार में सक्रिय है उनपर नजर बनाए हुए था। अब चुनावी शोर खत्म हो चुका है तो टीम में उन नेताओं की कुंडली पार्टी को बना कर दी है जिन्होंने पार्टी के आधिकारिक प्रत्याशियों से दूरी बनाए रखी और उनके चुनाव प्रचार से दूर रहे। अब पार्टी नतीजों के बाद उनपर कार्रवाई करने के मूड में है। 

दरअसल, बीजेपी की विजिलेंस टीम ने छानबीन के बाद पूरा खाका बनाकर पार्टी पदाधिकारियों को सौंप दिया है। लिस्ट मिलने के बाद पदाधिकारियों का दावा है कि भितरघात करने वाले नेता का जितना बड़ा कद होगा उसपर कार्रवाई भी उतनी ही बड़ी की जाएगी। पार्टी नेताओं ने बयान दिया है कि पार्टी से बगावत का मतलब है देश से बगावत करना। यही नहीं पदाधिकारियों का ता यह तक कहना है कि बगवत का मतलब देशद्रह की रह है। उन्होंने दावा किया है कि नतीजों के बाद ऐसे नेताओं पर गाज गिरना तय माना जा रहा है।  ग्वालियर लोकसभा सीट पर जहां बीजेपी ने कब्जा बरकरार रख��े के लिए कड़ी मशक्कत की है, वहीं कांग्रेस ने इस बार प्रदेश के बेहतर माहौल के लिए ग्वालियर सीट जीतने की उम्मीद लगाई है। लेकिन इस बार दोनों दल भितरघातियों से परेशान रहे। लिहाजा ये तय है कि नतीजों के बाद बीजेपी और कांग्रेस दोनों पार्टियों के भितरघातियों और असहयोग करने वालों पर कार्रवाई का चाबुक चलेगा।

इन नेताओं पर गिर सकती है गाज

1-अनूप मिश्रा, मुरैना सांसद

2- नारायण सिंह कुशवाहा, पूर्व मंत्री

3- माया सिंह, पूर्व मंत्री

4- देवेश शर्मा, जिला अध्यक्ष

5- अभय चौधरी, पूर्व जीडीए चेयरमेन

6- राकेश जादौन, पूर्व साडा, अध्यक्ष

7- जयसिंह कुशवाहा, पूर्व साडा अध्यक्ष

गौरतलब है कि बीजेपी ने इस बार टिकट वितरण को लेकर काफी नाराजगी झेलना पड़ी है। मुरैना से अनूप मिश्रा का टिकट काटने के बाद वह पार्टी से खासे नाराज थे। वह ग्वालियर से टिकट मांग रहे थे लेकिन पार्टी ने उन्हें खास तवज्जौ नहीं दी। जिससे खफा होकर उन्होने चुनाव प्रचार से दूरी बनाए रखी। उनके अलावा और भी कई नेता ग्वालियर सीट पर सक्रिय नहीं आए। वहीं, बालाघाट से वर्तमान बीजेपी सांसद रहे बोोध सिंह भगत को पार्टी बाहर का रास्ता दिखा चुकी है। यहां उन्होने बीजेपी के खिलाफ निर्दलीय चुनाव लड़ा है।