भाजपा के नए प्रदेशाध्यक्ष का ऐलान, इन्हें मिली जिम्मेदारी

5260

भोपाल।
लंबे इंतजार के बाद भाजपा ने नए प्रदेशाध्यक्ष की घोषणा कर दी है।भाजपा ने वीडी शर्मा को प्रदेश की जिम्मेदारी सौेपी है। अबतक राकेश शर्मा प्रदेश की कमान संभाल रहे है। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने उनके नाम का ऐलान किया है। वर्तमान में वीडी शर्मा खुजराहो से सांसद है और मूलत: मुरैना के रहने वाले हैं और संघ परिवार के बेहद करीबी माने जाते हैं। अब विष्णु दत्त शर्मा राकेश सिंह का स्थान लेगे।खास बात ये है कि भाजपा ने शर्मा का नाम ऐलान कर सबको चौंका दिया है, अबतक माना जा रहा था कि बीजेपी राकेश सिंह को दोबारा से रिपीट करेगी, वही दौड़ में पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज भी दूसरे नंबर पर चल रहे थे। सियासी गलियारों में अबतक यही चर्चा थी कि राकेश सिंह या शिवराज को प्रदेश की कमान सौंपी जा सकती है, लेकिन पार्टी ने शर्मा के नाम का ऐलान कर सभी अटकलों पर विराम लगा दिया है।

विष्णुदत्त शर्मा मूलत: मध्यप्रदेश के मुरैना जिले के निवासी है। उन्हें वीडी शर्मा के नाम से भी जाना जाता है। जो 32 वर्षों से लगातार सक्रिय राजनीति में है। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से राजनीति शुरू करने के बाद विष्णुदत्त शर्मा को संगठन में अनेक पद मिले।शर्मा जिला संगठन मंत्री से लेकर जिला संयोजक, प्रदेश मंत्री, प्रदेश अध्यक्ष और राष्ट्रीय अध्यक्ष तक रहे। फिर इसके बाद करीब 6 से 7 साल पहले भाजपा से जुड़ गए। यहां भी संगठन का कार्य देख रहे थे। कई चुनावों में संगठनात्मक प्रभारी भी रहे। प्रदेश की भाजपा राजनीति में बड़ा नाम जाना जाता है।  मौजूदा समय में वह भाजपा मध्यप्रदेश के प्रदेश महामंत्री है। प्रदेश की राजनीति में उन्हें बड़ा चेहरा माना जाता है। संघ से भी उनका जुड़ाव रहा है।

1987 से राजनैतिक कॅरियर शुरू करने वाले विष्णुदत्त शर्मा वैसे तो आम चुनावों से दूर ही रहे है, लेकिन 2019 लोकसभा चुनाव में भाजपा ने उन्हें खजुराहो सीट से भाजपा प्रत्याशी क्यों बनाया, इस सवाल का जवाब फिलहाल सभी चाह रहे है। जिसका जवाब तो भाजपा से ही मिलेगा, लेकिन जितनी जानकारी विष्णुदत्त शर्मा के बारे में प्राप्त हुई है उसके अनुसार राष्ट्रवादी नेता होने की छवि इनके टिकट का मुख्य कारण हो सकती है। विष्णुदत्त शर्मा अपने राजनैतिक कॅरियर के दौरान काफी आंदोलनों में भी शामिल हो चुके है। भ्रष्टाचार के खिलाफ आंदोलनों में उन्होंने पदयात्रा भी निकाली थी, जो बालाघाट से शुरू हुई थी। शिक्षा में व्यावसायीकरण और भ्रष्टाचार के खिलाफ आंदोलन में वह हमेशा सक्रिय रहे है। विष्णुदत्त शर्मा ने नर्मदा में प्रदूषण का अध्ययन किया है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here