लोकसभा चुनाव से पहले सम्मेलन आयोजित कर महिलाओं को पार्टी से जोड़ेगी बीजेपी

BJP-will-organize-women's-conference-before-Lok-Sabha-elections

भोपाल।

एक तरफ महिला कांग्रेस मोदी सरकार के खिलाफ अभियान चलाने की तैयारियों में जुटी है, जिसमें महिला कार्यकर्ता घर घर जाकर जनता से पूछेंगी कि मोदी सरकार ने जो वादे किए उसमें से कितने पूरे हुए। 15 लाख एकाउंट में देने की बात या फिर महिला सुरक्षा को लेकर सरकार ने योजना बनाई थी, क्या यह योजना पूरी हुई है।वही दूसरी तरफ बीजेपी सभी 29 लोकसभा सीटों पर अलग से प्रबुद्धजन सम्मेलन आयोजित करने जा रही है। इस सम्मेलन के माध्यम से बीजेपी उन महिलाओं को अपने फेवर मे करेगी जो मोदी सरकार को सपोर्ट करती है और जिनका समाज मे अच्छा वर्चस्व हो। फिर यही महिलाएं  मोदी सरकार का बखान  अन्य महिलाओं को बीजेपी को वोट देने के लिए प्रेरित करेंगी ।हालांकि यह सम्मेलन कितना सफल होता है ये तो आने वाला वक्त ही बताएगा।

                 दरअसल, विधानसभा चुनाव में मिली करारी हार के बाद बीजेपी का फोकस किसानों, युवाओं और महिलाओं पर ज्यादा है।किसानों के लिए केन्द्र ने पहले ही बजट में कई ऐलान कर ही दिए है। युवाओं के लिए सरकार नया प्लान ही बना रही है। वही महिलाओं को साधने के लिए इस सम्मेलन का सहारा लेने जा रही है।बीजेपी ने फैसला किया है कि वह लोकसभा चुनाव से पहले पार्टी प्रदेश की सभी 29 लोकसभा सीट पर प्रबुद्धजन सम्मेलन आयोजित करेगी।  इन प्रबुद्धजन सम्मेलनों में महिलाओं के सम्मेलन अलग से आयोजित किए जाएंगेष इन सम्मेलनों में समाज की सबसे सफल महिलाओं को आमंत्रित किया जाएगा।उनके सहारे बीजेपी महिलाओं को पार्टी से जोड़ने का काम करेगी। पार्टी ने 26 फरवरी को कमलदीप का आयोजन करने का भी फैसला किया है। इस आयोजन में बीजेपी महिला मोर्चा दीप जलाने का काम करेगा। साथ ही महिला मोर्चा घर घर जाकर भी संपर्क करने की रणनीति बना रहा है।

हालांकि विधानसभा चुनाव के दौरान भी भाजपा ने कई कार्यक्रम किए थे, जिनमें महिलाओं की भागीदारी रही थी। बावजूद इसके सरकार कामयाब नही हो पाई और सत्ता हाथ से चली गई। लेकिन इस बार सरकार का प्लान कुछ अलग है, इस सम्मेलन के माध्यम से बीजेपी एक बड़े महिला वर्ग को साधने की तैयारी कर रही है।  सुत्रों की माने तो यह सम्मेलन कांग्रेस के अभियान को ध्वस्थ करने के लिए चलाया जा रहा है, ताकी जनता को अपने पक्ष में किया जा सके। इस अभियान के माध्यम से भाजपा -कांग्रेस महिला वर्ग को कितना साध पाती है ये तो आने वाला वक्त ही बताएगा।