उपचुनाव: कमलनाथ का गेम प्लान, सिंधिया को ‘गढ़’ में घेरेंगे ‘पुराने दोस्त’

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट| मध्य प्रदेश (MadhyaPradesh) की 28 सीटों पर होने उपचुनाव (Byelection) को लेकर भाजपा (BJP) और कांग्रेस (Congress) दोनों ही दलों ने अपनी तैयारियां तेज कर दी है| जिन सीटों पर उपचुनाव होने हैं, उनमें से 16 सीटें ग्वालियर-चंबल इलाके की हैं| जहां कांग्रेस छोड़ भाजपा में आये ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) का प्रभाव माना जाता है| ऐसे में कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ (Kamalnath) ने सिंधिया की घेराबंदी के लिए बड़ा दांव चला है|

दरअसल, कांग्रेस ने तय किया है कि वह ग्वालियर-चंबल संभाग में पार्टी के पक्ष में प्रचार कराने के लिए राजस्थान के पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट (Sachin Pilot) को उतारेगी। सचिन पायलट और ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीच अच्छी दोस्ती मानी जाती है| जब पायलट ने राजस्थान में बगावती तेवर दिखाए थे, तो सिंधिया ने उनके समर्थन में बयान भी दिया था| जिसके बाद ऐसी चर्चा भी शुरू हो गई थी, क्या सिंधिया की तरह उनके दोस्त पायलट भी भाजपा में शामिल हो सकते हैं| लेकिन इन सभी चर्चाओं पर खुद पायलट ने ही विराम लगा दिया|

सिंधिया को अपने ही गढ़ में घेरने की रणनीति
पायलट को सिंधिया के खिलाफ मैदान में प्रचार के लिए उतारना कांग्रेस की एक सोची समझी रणनीति मानी जा रही है| कांग्रेस में रहते हुए सिंधिया और पायलट की जोड़ी की चर्चा खूब होती थी। दोनों कई मौकों पर पूर्व में एक साथ देखे जाते रहे हैं। लेकिन अब स्थिति बदली है, तो कमलनाथ ने पायलट का प्रयोग सिंधिया के खिलाफ करने का प्लान बनाया है| वहीं जिन 28 सीटों पर उपचुनाव होने हैं, उनमें से 16 सीटें ग्वालियर-चंबल इलाके की हैं| इनमें कई सीटें ऐसी हैं जहां गुर्जर मतदाताओं की संख्या अच्छी-खासी है| ऐसे में राजस्थान के दिग्गज गुर्जर नेता सचिन पायलट, कांग्रेस के लिए महत्वपूर्ण साबित हो सकते हैं|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here