कमलनाथ की कैबिनेट बैठक सम्पन्न, राम वन गमन पथ के लिए ट्रस्ट बनाने को मिली मंजूरी

भोपाल. प्रदेश में राजनीतिक संग्राम छिड़ा हुआ है। हॉर्स ट्रेडिंग(Horse Trading), आरोप-प्रत्यारोप की राजनीति के बीच मुख्यमंत्री कमलनाथ की कैबिनेट ने वर्ष 2020-21 के बजट का अनुमोदन दिया है। इसी सिलसिले में आज कमलनाथ की अध्यक्षता में कैबिनेट की बैठक संपन्न हुई। जहां मुख्यमंत्री कमलनाथ ने अपने मंत्रियों से बजट के लिए सुझाव मांगे हैं।

बता दें कि मध्य प्रदेश में वर्ष 2020-21 का बजट सत्र शुरू होने वाला है। जिसके लिए कमलनाथ सरकार ने आज अपने मंत्रियों के साथ कैबिनेट की बैठक की। बैठक में उन्होंने मंत्रियों से बजट को लेकर अपने सुझाव रखने को कहा। साथ ही राज्यपाल के अभिभाषण को भी अनुमोदन दे दिया गया है।राज्यपाल टंडन विधानसभा में 16 मार्च को बजट पर अपना अभिभाषण देंगे।

बात अगर बजट की करें तो इस वर्ष का बजट 2 लाख 30 हजार से अधिक होने की संभावना है। सूत्रों के मुताबिक मन्दिर कि जीर्णोद्धार के लिए लाई गई बिल्डर पॉलिसी पर कमलनाथ ने नाराजगी जताई है। अपने भाषण में मुख्यमंत्री ने साफ कहा है कि प्रदेश सरकार ऐसे कोई प्रावधान नहीं लाएगी।

कैबिनेट बैठक को लेकर जानकारी देते हुए जनसंपर्क मंत्री शर्मा ने कहा के सीएम हेल्पलाइन में कार्य संविदा कर्मचारियों की सेवा आगामी 5 वर्षों तक समान रखी जाएगी। अन्य जानकारी देते उन्होंने बताया कि राज्यपाल टंडन के सचिव मनोहर दुबे को ओएसडी के पद पर नियुक्ति देने का निर्णय लिया गया है। राम वन गमन पथ पर बोलते हुए शर्मा ने बताया कि इसके लिए ट्रस्ट का निर्माण होगा, जिसके मुख्य सचिव मुख्यमंत्री होंगे।इनमें अध्यात्म, संस्कृति, पर्यटन के मंत्री एवं वरिष्ठ अधिकारी के साथ चार विधायक व सांसदों के 8 अशासकीय सदस्य भी शामिल रहेंगे। जनसंपर्क मंत्री ने यह भी बताया कि श्री लंका में सीता माता के मंदिर निर्माण के लिए बजट में प्रावधान रखा गया है। अन्य महत्वपूर्ण निर्णय पर जानकारी देते हुए उन्होंने बताया की अदानी पावर से 79 पैसे प्रति यूनिट की दर से करीब 1320 मेगावाट बिजली लेने के प्रस्ताव को भी मंजूरी मिली है।

क्या है राम वन गमन पथ

राम वन गमन पथ चित्रकूट से अमरकंटक तक दोनों ओर बनेगा। जिसके सर्वे के आदेश कमलनाथ सरकार ने पहले ही दे दिए हैं। साथ ही श्रीलंका में सीता माता के मंदिर का भी निर्माण करवाया जाएगा।