भिक्षावृत्ति के खिलाफ मुहिम: राजधानी में 17 महिलाओं और बच्चों का किया रेस्क्यू

-Campaign-against-begging-in-bhopal-Rescue-of-17-women-and-children-in-the-capital

भोपाल| आज के दौर में भिक्षावृत्ति कुछ ही लोगों के लिए मजबूरी का सौदा है, बड़े पैमाने पर यह एक धंधा बन चुकी है और इस धंधे को चलाने वाले मासूम बच्चों को भी इस दलदल में झोंक रहे हैं| ऐसे ही दलदल से मासूम बच्चों को रोकने की मुहीम राजधानी भोपाल में शुरू हो गई है| बाल भिक्षावृत्ति रोकने संभागायुक्त कल्पना श्रीवास्तव के नेतृत्व में खुशहाल नौनिहाल अभियान की शुरुआत की गई है| मुहिम के तहत न सिर्फ बच्चों को भिक्षावृत्ति के दलदल से निकाला जाएगा, बल्कि उनके पुनर्वास की भी योजना है। इस अभियान के तहत शुक्रवार को बड़ी सफलता मिली और शहर के मुख्य रैवै स्टेशनों पर धरपकड़ की कार्रवाई करते हुए 17 महिलाओं और बच्चों को रेस्क्यू कर उन्हें घरोंदा महिला आश्रय गृह और निर्भया आश्रय गृह भेजा गया है| 

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर भोपाल में बाल भिक्षा उन्मूलन के लिए भोपाल कमिशनर कल्पना श्रीवास्तव के नेतृत्त्व में खुशहाल नौनिहाल अभियान का प्रारंभ किया गया। अभियान के तहत बोर्ड आफिस चौराहा, प्रगति पेट्रोल पम्प, ज्योति टाकीज क्षेत्र में भिक्षा मांगते हुए बालकों को समाज की मुख्य धारा से जोड़ने के लिए काउंसलिंग भी की गई। इस अभियान के दौरान केवल भिक्षा मांग रहे बच्चों की धर-पकड़ नहीं की गई बल्कि उनकी परिस्थितियों की जानकारी लेकर उन्हें उचित समाधान भी सुझाए गए। अभियान के पहले दिन ही दो बच्चों को गौरवी पहुंचाया गया था वहीं एक परिवार को घर तक टीम के जरिए छुड़वाया गया। टीम इस दिशा में सार्थक कार्य कर रही है| संभाग आयुक्त कल्पना श्रीवास्तव के नेतृत्व में टीम द्वारा राजधानी में भिक्षावृत्ति के दलदल से उन बच्चों और महिलाओं को निकाल कर एक उज्जवल जीवन देने की पहल की जा रही है| जिसकी राजधानीवासी भी सराहना कर रहे हैं|  

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here