पेट्रोल-डीजल पर केंद्र और राज्य सरकार आमने-सामने, सियासत शुरू

539
Center-and-state-government-face-to-face-on-petrol-diesel-

भोपाल| पेट्रोल डीजल के दाम बढ़ने पर अब सियासत शुरू हो गई है| 5 जुलाई को पेश किए गए देश के बजट में पेट्रोल-डीजल पर सेस लगने के बाद लोगों पर महंगाई की मार पड़ना शुरू हो गई है| देश में आज यानी शनिवार से पेट्रोल और डीजल के दामों में 4 रुपये से अधिक की बढ़ोतरी हो गई है। शुक्रवार को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट भाषण के दौरान पेट्रोल और डीजल पर 2 रुपये प्रति लीटर की दर से एक्साइज ड्यूटी और रोड इन्फ्रास्ट्रक्चर सेस बढ़ाने का ऐलान किया था। मध्य प्रदेश में भी इसका असर देखने को मिल रहा है| इस पूरे मामले पर कमलनाथ ने केन्द्र सरकार पर निशाना साधते कहा है कि इस बजट से हर वर्ग परेशान है| बात महंगाई कम करने की करती है यह सरकार, लेकिन ऐसा कोई काम होता नहीं| हालांकि सीएम पेट्रोल डीजल के बढे हुए दामों पर बोलने से बचते हुए दिखाई दिए|

केन्द्र के द्वारा दामों को बढाए जाने को लेकर नेता प्रतिपक्ष ने भी प्रदेश सरकर निशाना साधते हुए कहा कि पेट्रोल डीजल के दाम कम ज्यादा होते रहते है|क्योंकि अन्तर्राष्ट्रीय बाजार में क्रूड आयल के दाम में उतार चढाव होता रहता है| इसके लिए राज्यों की सरकार को टैक्स कम लगाना चाहिए| भारत में मध्यप्रदेश एक ऐसा राज्य है जहां पेट्रोल पर सबसे ज्यादा टैक्स लगाया जाता है| इसलिए राज्य सरकार को मेरी सलाह है कि वो पेट्रोल-डीजल पर अपना टैक्स कम करे…ताकि जनता पर भार ना पडे|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here