इन दो सीटों पर केंद्रीय मंत्री की निगाहें, इनका टिकट कटना तय

central-minister-tomar-eye-on-two-seats-of-gwalior-and-chambal

भोपाल/ग्वालियर। मध्य प्रदेश के ग्वालियर चंबल क्षेत्र से भाजपा के दो कद्दावर नेताओं के नाम पर लगातार सस्पेंस बरकरार है। ग्वालियर लोकसभा सीट से केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर का नाम यहां के अलावा मुरैना से भी सामने आ रहा है। वहीं, मुरैना के वर्तमान सांसद अनूप मिश्रा विधानसभा चुनाव हार चुके हैं। मुरैना में उनके खिलाफ माहौल है। इसलिए पार्टी उनकी टिकट काटने पर विचार कर रही है। हालांकि, मिश्रा अपनी सीट बदले कर किसी अन्य लोकसभा से चुनाव लड़ना चाहते हैं। हाल ही में बीजेपी ने लोकसभा चुनाव को लेकर भाजपा ने 184 प्रत्याशियों की घोषणा कर दी है। हालांकि इन प्रत्याशियों में मध्यप्रदेश की एक भी सीट शामिल नहीं है। मध्यप्रदेश को लेकर ऐसा माना जा रहा है कि इस माह के अंत तक सभी प्रत्याशियों को लेकर पिक्चर साफ हो जाएगी। 

ग्वालियर-चंबल संभाग की चारों सीटों पर भाजपा इस बार प्रत्याशी चयन में फूंक फूंक कर कदम रख रही है, क्योंकि विधानसभा चुनाव में प्रत्याशियों का सही चयन न होने से भाजपा को करारी शिकस्त मिली थी। इसलिए पार्टी हर सीट पर जिताऊ प्रत्याशी उतारने के लिए मंथन कर रही है। ग्वालियर लोकसभा से सांसद एवं केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर को लेकर अभी तक सस्पेंस बरकरार है कि वे किस सीट से चुनाव लड़ेंगे। हालांकि, ग्वालियर और मुरैना दोनों सीटों से उनका नाम है। सियासी गलियारों में सुगबुगाहट है कि आखिर केंद्रीय मंत्री तोमर इस बार कहां से ताल ठोकेंगे, क्योंकि केंद्रीय मंत्री तोमर दोनों सीटों पर अपनी निगाह गढ़ाए हुए हैं और दोनों की लोकसभा क्षेत्रों में अपनी सक्रियता बनाए हुए हैं। जिसको लेकर सियासी पंडित भी फेल नजर आ रहे हैं कि वे कहां से मैदान में होंगे। केंद्रीयमंत्री तोमर के नाम को लेकर सियासी गलियरों में जबर्दसत सस्पेंस बरकरार है और उन्होंने भी अभी तक पत्ते नहीं खोले हैं कि आखिर वे किसी सीट से चुनावी मैदान में उतरेंगे।

अनूप और भागीरथ का टिकट कटना तय

मुरैना से सांसद अनूप मिश्रा और भिंड से सांसद भागीरथ प्रसाद का दोनों सीटों से टिकट कटना तय माना जा रहा है। हालांकि अनूप मिश्रा को लेकर ऐसा माना जा रहा है कि यदि नरेंद सिंह तोमर मुरैना सीट से चुनाव लड़ते हैं तो पार्टी उन्हें ग्वालियर से मैदान में उतार सकती है, क्योंकि पार्टी अंचल की चारों सीटों में से किसी एक सीट से ब्राह्मण नेता को टिकट से नवाज सकती है।