किसानों को फसल बेचने से 5 दिन पहले पहुंचेगा SMS, दिग्विजय के सवाल उठाने पर बदली व्यवस्था

Changing-system-of-crop-purchasing-for-raising-the-question-of-Digvijay-singh

भोपाल। प्रदेश में किसानों को अब फसल बेचने से पांच दिन पहले एसएमएस मिलेगा। किसान अपनी सुविधा के अनुसार फसल बेचने के लिए उपार्जन केंद्र पर पहुंच सकेगा। खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग ने पूर्व पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह को पत्र लिखकर उपार्जन की व्यवस्था के बारे में बताया है। उन्होंने पिछले हफ्ते उपार्जन की व्यवस्था पर सवाल उठाते हुए सरकार को पत्र लिखा था। जिसके बाद व्यवस्था में सुधार किया गया है। 

दिग्विजय सिंह ने सीहोर और प्रदेश के अन्य क्षेत्रों में गेहूं उपार्जन व्यवस्था को लेकर खाद्य विभाग से सवाल किए थे। खाद्य विभाग ने सिंह को पत्र का जवाब भेजकर बदली हुई व्यवस्था के बारे में जानकारी दी है। विभाग का कहना है कि पूर्व के सालों की तुलना में इस बार 400 अतिरिक्त उपार्जन केंद्र किसानों की सुविधा दी गई है। इसमें यह ध्यान रखा गया है कि किसी भी केंद्र की दूरी 15 किलोमीटर से अधिक न हो और किसान को फसल लेकर ज्यादा दूर नहीं जाना पड़े। सिंह ने कहा है कि खाद्य विभाग ने स्वीकार किया है सहकारी समितियों द्वारा किसानों से नाजायज मांग की जा रही थी और एक तिहाई किसानों तक एसएमएस भी नहीं पहुंचा था। इसलिए अब एसएमएस प्रक्रिया को केंद्रीयकृत किया है। ताकि पंजीयन के उपरांत किसानों को समस्या न हो। किसान बिक्री का दिन अपनी इच्छा अनुसार तय कर सकें। बिक्री के दिन से पांच दिन पहले एसएमएस किसान के पास पहुंचाया जा रहा है। उपार्जन केंद्रों पर रोजाना तुलाई का काम पूरा किया जा रहा है और किसान को अगले दिन तक इंतजार करने की स्थिति नहीं बनने दी जा रही।