मुख्यमंत्री शिवराज का बयान-मामा आपके साथ, बाढ़ प्रभावित हर व्यक्ति को मिलेगा मुआवजा

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। बीते दिनों हुई लगातार बारिश ने प्रदेशभर मे तबाही मचाई। 12 जिलों के 462 गांव-कस्बें बाढ़ की चपेट में आ गए। किसानों (Farmers) के खेत और मकान ढह गए, इस दौरान करीब 10 लोगों की मौत भी हो गई, लेकिन प्रदेश की शिवराज सरकार ने मोर्चा संभाला और 11000 हजार से ज्यादा लोगों का रेस्क्यू किया गया ।वही मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chouhaan) ने साफ कहा है कि बाढ़ आपदा (Flood disaster) की इस घड़ी में सरकार पूरी तरह बाढ़ प्रभावितों के साथ है। बाढ़ प्रभावित प्रत्येक व्यक्ति को भरपूर मुआवजा मिलेगा। धैर्य रखें, बिल्कुल चिंता न करें आपका “मामा” हर समय आपके साथ है

दरअसल, बाढ़ ग्रस्त इलाकों में जनजीवन अस्त व्यस्त होने के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह खुद एक एक जिले का दौरा कर हाल जान रहे है।मंगलवार को शिवराज सिंह चौहान देवास जिले के नेमावर पहुंचे थे, जहां उन्होंने कहा है कि बाढ़ प्रभावित हर व्यक्ति को फसल, मकान, सामान आदि के नुकसान का भरपूर मुआवजा दिलवाया जाएगा। कोरोना संकट के चलते प्रदेश की वित्तीय स्थिति खराब है परन्तु बाढ़ राहत कार्य तथा जनता की मदद में राशि की बिल्कुल भी कमी नहीं आने देंगे। आप धैर्य रखें, बिल्कुल चिंता न करें आपका ‘मामा’ हर समय आपके साथ है। प्रशासन आपको हरसंभव मदद देने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ेगा।

अधिकारियों को दिए ये निर्देश

उन्होंने वहां बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों एवं वार्डों में घूमकर बाढ़ से हुए नुकसान को देखा तथा प्रभावितों से बातचीत कर उन्हें आश्वस्त किया। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि भोजन, स्वच्छ जल, दवाइयां आदि की आपूर्ति में कोई कमी नहीं रहे। साथ ही निरंतर साफ-सफाई, बिजली आपूर्ति, नालों व सड़कों से गाद निकालना, मृत जानवरों को हटाना आदि कार्य भी किए जाए। पेयजल स्त्रोतों के शुद्धीकरण एवं मौसमी बीमारियों की रोकथाम एवं उपचार पर विशेष ध्यान दिया जाए। कोरोना के मद्देनजर राहत शिविरों में सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क आदि का पालन भी सुनिश्चित किया जाए।

फसल बीमा की तारीख आगे बढेगी

मुख्यमंत्री ने कहा कि मुझे निरंतर आपकी चिंता रहती है। नर्मदा नदी के किनारे होने से यहां बाढ़ का खतरा हमेशा बना रहता है। में गत 5 दिनों में दूसरी बार खातेगांव-नेमावर क्षेत्र में आया हूँ। पहले आपकी फसलों की नुकसान का जायजा लेने तथा अब आपको सहायता पहुंचाने। आप निश्चिंत रहें, संकट की इस घड़ी में सरकार आपको हरसंभव सहायता देगी। नेमावर क्षेत्र में एक और फ्लाई ओव्हर के लिए केन्द्रीय भूतल, परिवहन मंत्री नितिन गडकरी से बातचीत करेंगे। साथ ही फसल बीमा करवाने की तिथि 4-5 दिन और बढ़ाए जाने के लिए भी केन्द्र सरकार से अनुरोध करेंगे। अभी इसकी अंतिम तिथि 31 अगस्त थी। बहुत से किसान इस तिथि तक अपना बीमा नहीं करवा पाए हैं।

 

गरीब की थाली, कभी न रहे खाली
मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि 3 सितम्बर से सरकार प्रदेश के छूटे हुए सभी 36 लाख गरीबों को 1 रूपए किलो की दर से 5-5 किलो गेहूँ, चावल, नमक प्रति व्यक्ति प्रति परिवार तथा 5-5 किलो नि:शुल्क राशन इस प्रकार प्रति व्यक्ति 10-10 किलो राशन प्रदान करने जा रही है। हमारा संकल्प है कि ‘गरीब की थाली, कभी न रहे खाली’। चौहान ने आपदा ग्रस्त व्यक्तियों को आर्थिक सहायता राशि के स्वीकृति पत्र वितरित किये। मकान व खाद्यान्न छति के लिए नेमावर निवासी सूरज बाई पति जगदीश, सिरालियारेवातीर निवासी रमेश पिता श्यामलाल, भंवर सिंह पिता जस्सू, मोहनलाल पिता चुन्नीलाल तथा मिर्जापुर निवासी रासत खां पिता कालू को 95-95 हजार रूपये की आर्थिक सहायता राशि के स्वीकृति पत्र प्रदान किये। दुकान के सामान की क्षति होने से नेमावर निवासी कृष्णकांत पिता नर्मदा प्रसाद शर्मा, राकेश व्यास पिता कमल किशोर, बसंत राठौर पिता सुंदरलाला, उपकार पिता बंशीधर तथा शरद पिता जुगल किशोर को 12-12 हजार रुपये राशि के स्वीकृति-पत्र वितरित किये गये।