मुख्यमंत्री की अपील-‘घर पर ही मनाएं ईद, संक्रमण रोकना पहली प्राथमिकता’

भोपाल| मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) ने अपील की है कि ईद के त्यौहार को घर पर ही रहकर मनाएं। साथ ही फिजिकल डिस्टेंसिंग (Physical distancing) का पूरा पालन करने को कहा है। सीएम ने कहा कि कोरोना संक्रमण रोकना हमारी पहली प्राथमिकता है। सभी जिले पूरी सावधानी से इस प्रकार कार्य करें कि संक्रमण कहीं भी न फैले। साथ ही संक्रमित मरीजों का सर्वोत्तम इलाज सुनिश्चित किया जाए।

मुख्यमंत्री श्री चौहान आज मंत्रालय में वीडियो कान्फ्रेंसिंग (Video Conferencing) के माध्यम से प्रदेश में कोरोना की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बताया कि अब ग्रीन जोन से ग्रीन जोन में जाने के लिए ई-पास की आवश्यकता नहीं होगी। मुख्य सचिव श्री बैंस ने कहा कि गाइडलाइन के नियमों का पालन किया जाए तथा लोगों को अनावश्यक रूप से आने-जाने से रोका न जाए।

189 नए पॉजिटिव, 246 स्वस्थ हुए
एसीएस हैल्थ सुलेमान ने बताया कि 22 मई की रिपोर्ट के अनुसार प्रदेश में कोरोना के 189 नए मरीज पाए गए हैं वहीं 246 मरीज स्वस्थ होकर घर गए हैं। कोरोना के एक्टिव प्रकरणों में 59 की कमी आयी है। अब प्रदेश में कोरोना के एक्टिव प्रकरण 2809 हैं। प्रदेश के कटनी एवं नरसिंहपुर जिलों में अभी कोई कोरोना पॉजिटिव नहीं आया है, वहीं आगर-मालवा, अलीराजपुर, अनूपपुर, छिंदवाड़ा एवं हरदा जिले संक्रमण मुक्त हो गए हैं।

लापरवाही बर्दाश्त नहीं होगी
मंदसौर जिले की समीक्षा के दौरान बताया गया कि तीन दिन में वहाँ 23 कोरोना के प्रकरण बढ़ गए। इस पर मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिए कि पूरी सावधानी एवं गंभीरता से कार्य किया जाए, थोड़ी भी लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

अभी शुरूआत है, पूरी सावधानी रखें
सिंगरौली जिले की समीक्षा के दौरान मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि अभी जिले में कोरोना संक्रमण की शुरूआत है, पूरी सावधानी रखें, संक्रमण आगे नहीं बढ़ना चाहिए। सैम्पल लें, टैस्टिंग करें तथा कान्टेक्ट हिस्ट्री ट्रेस करें।

आने वाले मजदूरों की अनिवार्य रूप से हैल्थ स्क्रीनिंग करें
रीवा जिले की समीक्षा में मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि बाहर से आने वाले मजदूरों की अनिवार्य रूप से हैल्थ स्क्रीनिंग हो। कलेक्टर द्वारा बताया गया कि जिले में अभी तक 55 हजार प्रवासी मजदूर आ गए हैं। जिले में कोरोना के 26 प्रकरण थे जिनमें से एक डिस्चार्ज होकर घर चला गया है।