अब महाकाल दर्शन और नर्मदा स्नान का पुन्य साथ साथ

MP News

भोपाल। धार्मिक नगरी उज्जैन के लिए मानसून से पहले खुशखबरी आई है। शुक्रवार को नर्मदा नदी का जल शिप्रा नदी के त्रिवेणी घाट पर पहुंच गया है। उल्लेखनीय है कि कुछ दिन पहले शिप्रा नदी में स्नान के लिए पर्व के समय जल न होने के कारण साधु संतों को कीचड़ स्नान करना पड़ा था जिसे मुख्य सचिव सुधि रंजन मोहंती ने काफी गंभीरता से लिया था और तत्काल इस मामले में संभागायुक्त और कलेक्टर के ऊपर कार्रवाई करते हुए उन्हें पद से हटा दिया था। 

उसके बाद मुख्यमंत्री कमलनाथ के निर्देश पर मुख्य सचिव मोहंती ने इस पूरे मामले की कमान अपने हाथ में ली और नर्मदा विकास प्राधिकरण को इंदौर जिले के ग्राम उज्जैनी से 68 किलोमीटर लंबी पाइपलाइन के जरिए जल त्रिवेणी घाट तक लाने का टास्क सौंपा था। शुक्रवार को इस काम को पूरा कर लिया गया है।दो साल के रिकॉर्ड समय में यह काम पूरा हो गया है और अब जब भी जरूरत होगी क्षिप्रा नदी में नर्मदा का जल मिल जाएगा। इस पाइपलाइन के जरिए मात्र 36 घंटे में नर्मदा का जल क्षिप्रा में पहुंचेगा। यानी अब भविष्य में कभी शिप्रा नदी का जल सूखेगा नहीं और नर्मदा के साथ मिलकर उज्जैन में कल-कल बहता रहेगा।