Clear-the-party's-stand-on-the-Pulwama-attack

भोपाल।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय के पुलवामा हमले के बदले एयर स्ट्राइक के सबूत मांगे जाने पर देश-प्रदेश में सियासत गर्मा गई है। विपक्ष द्वारा जमकर दिग्विजय और कांग्रेस की घेराबंदी की जा रही है।यहां तक की पीएम मोदी और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह दिग्विजय के बयान पर सवाल उठा चुके है।लेकिन दिग्विजय अपने बयान पर अड़े हुए है और सबूत मांग रहे है।साथ ही दिग्विजय भाजपा नेताओं द्वारा उन्हे देशद्रोही बताने पर मुकादमा दर्ज करवाने की बात तक कह चुके है।  नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव के बाद अब पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दिग्विजय को लेकर बड़ा बयान दिया है। शिवराज ने पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी से मांग की है कि पुलवामा हमले में पार्टी का स्टैंड क्लियर करें या दिग्विजय और हरिप्रसाद को बाहर निकालें।

दरअसल, शिवराज आज  ‘भारत के मन की बात, मोदी जी के साथ’ कार्यक्रम में भाग लेने बेंगलुरु पहुंचे है, वहां प्रेस कॉन्फ्रेंस में संबोधित करते हुए उन्होंने यह बातें कही। शिवराज कहा कि राहुल गांधी पुलवामा हमले में पार्टी का स्टैंड क्लियर करें या दिग्विजय और हरिप्रसाद के बयानों के लिए उन्हें पार्टी से तुरंत निकाल दें। हमने पहले भी कहा है कि कम से कम शहीदों को तो छोड़ दें। राहुल गांधी झूठों के सरताज हैं। मध्यप्रदेश में उन्होंने कहा था कि सरकार बनने के दस दिन में यदि सभी किसानों का कर्ज़ माफ नहीं किया गया तो वे मुख्यमंत्री को हटा देंगे। सरकार बने 77 दिन हो चुके हैं। अगर वे वादे के पक्के होते तो अभी तक 7 मुख्यमंत्री हो गए होते।

इस दौरान लोकसभा चुनाव को लेकर शिवराज ने कहा कि भाजपा के संकल्प पत्र को पार्टी के कुछ लोग नहीं बनायेंगे,बल्कि ‘भारत के मन की बात मोदी  के साथ’ कार्यक्रम के तहत हम लोग जनता के बीच जाकर सुझाव ले रहे हैं। सुझावों के आधार पर संकल्प पत्र तैयार होगा।इस दौरान उन्होंने किसानों, युवाओं, महिलाओं एवं समाज के अलग-अलग वर्गों से अगले 5 साल में नये भारत के निर्माण के लिए सुझाव मांगे।

नेता प्रतिपक्ष बोले- दिग्विजय को मुंह में हो गया है गुप्तरोग

इससे पहले शुक्रवार को एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए नेता प्रतिपक्ष और वरिष्ठ नेता गोपाल भार्गव ने पुलवामा हमले को दुर्घटना बताने पर दिग्विजय सिंह पर विवादित बयान दिया था। भार्गव ने कहा था कि दिग्विजय सिंह की उंगलियों और मुंह में गुप्त रोग है, इसलिए वह देश के खिलाफ बोलते है। जब तक वो अपनी उंगलियां नहीं चला लेते मोबाइल पर, जब तक अपने मुंह से कुछ देश के खिलाफ बयान नहीं दे देते, तब तक दिग्विजय सिंह को भोजन नहीं नसीब होता।  हैरानी की बात तो ये है कि इस कार्यक्रम में राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह समेत पार्टी के तमाम नेता और कार्यकर्ता भी मौजूद थे। जो सभा में उनके बयान पर ठहाके लगाते नजर आये।