भोपाल।चीन में फैले कोरोना वायरस की वजह से भारत के कई छात्र-छात्राएं शियान सिटी में फंसे हुए हैं| इन छात्रों में मध्य प्रदेश के खरगोन जिले के दो विद्यार्थी शुभम गुप्ता और मतीन खान भी शामिल हैं|दोनों छत्रों ने वीडियो के माध्यम से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मदद की गुहार लगाई थी| मामला संज्ञान में आने के बाद अब प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने दोनों छात्रों और उनके परिजनों को उनकी सुरक्षित वापसी का आश्वासन दिया है|

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने ट्वीट कर दोनों छात्रों की सुरक्षित वापसी के लिए विदेश मंत्रालय से अनुरोध करने की बात कही है साथ ही उन्होंने ने प्रदेशवासियों से कोरोना वाइरस को लेकर चिंतित नहीं होने की अपील की है| सीएम कमलनाथ ने ट्वीट कर कहा है कि ‘प्रदेश के खरगोन ज़िले के तीन छात्रों के चीन में फँसे होने व मदद माँगने की जानकारी मिली है।हम विदेश मंत्रालय से आज ही अनुरोध करेंगे कि तत्काल इन छात्रों की सुरक्षित वापसी के इंतज़ाम हो। चीन में कोरोना वाइरस के संक्रमण को देखते हुए इनके अलावा अन्य सभी भारतीयो को भी सुरक्षित वापस लाने के इंतज़ाम हो।प्रदेश के नागरिक कोरोना वाइरस के संक्रमण को लेकर चिंतित ना हो।प्रदेश सरकार ने इससे बचाव व रोकथाम को लेकर व्यापक दिशा-निर्देश पूर्व में ही जारी किये हुए है। हमने प्रदेश के सभी अस्पतालों में इसको लेकर विशेष इंतज़ाम करने के निर्देश जारी किये है।

गृहमंत्री बोले-सकुशल वापसी का प्रयास करेगी सरकार
वही इस मामले में गृहमंत्री बाला बच्चन का कहना है कि चीन के वुहान में फंसे खरगोन के दो छात्रों की सकुशल वापसी के लिए मध्य प्रदेश सरकार प्रयास करेगी। इसके साथ अन्य जिलों में फंसे बच्चों को भी लाने का काम किया जाएगा। केंद्र सरकार द्वारा इस पर तत्काल एक्शन लेना चाहिए। चीन के वुहान में फंसे दो बच्चों के अलावा प्रदेश के अन्य जिलों में फंसे बच्चों को लाने के लिए तुरंत एक्शन प्लान बनाकर काम किया जाएगा।

उल्लेखनीय है कि वीडियो में खरगोन के दोनों छात्रों शुभम गुप्ता और मतीन खान ने तेजी से बढ़ रहे कोरोना वायरस और उससे होने वाली परेशानियों का जिक्र किया है| छात्रों ने वायरस की वजह से कमरे में कैद होने और खाने-पीने की कमी की बात कही है| आपको बता दें कि शुभम गुप्ता और मतीन खान चीन के वुहान में स्थित शियान सिटी के कॉलेज में एमबीबीएस की पढ़ाई कर रहे हैं. दोनो MBBS -2 के छात्र है| छात्रों के वीडियो से परिवार के लोग चिंतित है| उन्होंने पीएम नरेंद्र मोदी, रक्षा मंत्रालय एंव विदेशमंत्री तक से मीडिया के माध्यम से गुहार लगाई है|