1173 करोड़ की इस परियोजना का शिवराज करने वाले थे भूमिपूजन, 26 को अब कमलनाथ करेंगें

cm-kamal-nath-to-bhumibhujan-of-naglawadi-irrigation-project-01489428-html

भोपाल।

बीते साल शिवराज सरकार में कई विकासकार्य होने बाकी थे, लेकिन इससे पहले आचार संहिता लग गई, विधानसभा चुनाव हुए और प्रदेश में सत्ता बदल गई।हालांकि पूर्ण बहुमत किसी को नही मिला लेकिन कांग्रेस ने गठबंधन कर सरकार बना ली।अब जो पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज के हाथों विकासकार्य होने थे अब वे मुख्यमंत्री कमलनाथ करने वाले है, जिसका क्रेडिट भी कमलनाथ सरकार को मिलना तय है। खबर है कि 26 फरवरी को मुख्यमंत्री कमलनाथ नागलवाड़ी उद्वहन सिंचाई परियोजना का भूमिपूजन करेंगें।जिसके बाद इसका काम शुरु किया जाएगा। इस पर भाजपा ने अपनी प्रतिक्रिया दी है। उनका कहना है कि सारी प्रक्रिया उनके कार्यकाल में पूरी हो चुकी है। कांग्रेस सरकार सिर्फ परियोजना की शुरुआत कर श्रेय लेना चाहते हैं, ताकी लोकसभा चुनाव में इसका फायदा उठा सके।

दरअसल,  पिछली सरकार में ही नागलवाड़ी उद्वहन सिंचाई परियोजना को लेकर सारी प्रक्रिया पूरी हो चुकी थी। वर्क आर्डर जारी हो गए है, टेंडर, ड्राइंग व डिजाइन का काम पूरा हो चुका है और अब आगे इसका काम शुरू होना बाकी है।  पूर्व सीएम चौहान का पहले 7 अगस्त व उसके बाद 26 सितंबर 2018 को नागलवाड़ी सिंचाई परियोजना के शिलान्यास का कार्यक्रम तय हुआ था लेकिन किसी कराण वश दौरा निरस्त करना पड़ा और काम बीच में ही रुक गया।इसके बाद आचार संहिता लग गई और चुनाव हुए तो सरक��र ही बदल गई। इसी बीच हाल ही में भोपाल में हुए किसान सम्मेलन में किसानों का एक प्रतिनिधिमंडल राहुल गांधी से आभार सभा में मिलने पहुंचा और कहा कि सालभर पहले परियोजना को मंजूरी मिली थी।, लेकिन अब तक काम शुरु नही हो पाया है।इस पर राहुल गांधी ने उन्हें आश्वासन दिया,जिसके बाद अब मुख्यमंत्री कमलनाथ 26 फरवरी को दोपहर 12 बजे भूमिपूजन करेंगे। नागलवाड़ी में 1173 करोड़ रुपए की इस परियोजना से खरगोन व बड़वानी जिले के 116 गांवों में 47 हजार हेक्टेयर भूमि सिंचित होगी। गृहमंत्री बाला बच्चन ने दोनों जिलों के अफसरों के साथ बैठक लेकर हेलीपेड, यातायात, मंच, दर्शन, पार्किंग, सभास्थल, पेयजल व्यवस्थाओं पर बातचीत की।

 इतने गांव होंगे लाभान्वित 

परियोजना पर 949.55 करोड़ रुपए खर्च होंगे। करीब एक साल पहले सरकार ने इस परियोजना को मंजूरी दी थी। परियोजना को 2 साल के भीतर पूरा कराने का लक्ष्य रखा है। फिलहाल जिले में इंदिरा सागर व लोअर गोई परियोजना की नहरों का निर्माण कार्य भी जारी है।  परियोजना से खरगोन जिले के 70 और बड़वानी जिले के 46 गांवों में 47 हजार हेक्टेयर में सिंचाई होगी। खरगोन की सेगांव तहसील, खरगोन व बड़वानी जिले की राजपुर, ठीकरी व सेंधवा तहसील के गांवों को परियोजना में शामिल किया है। एनवीडीए के डिवीजन नंबर 14 के ईई सीबी टटवाल ने बताया ड्राइंग व डिजाइन बन गई है। उन्होंने बताया ब्राह्मणगांव के पास नंदगांव से प्रति सेकंड 15 हजार लीटर पानी लिफ्ट किया जाएगा।