मध्यप्रदेश के सीएम कमलनाथ ने किया किसानों के लिए बडा ऐलान

भोपाल। मुख्यमंत्री कमल नाथ ने रविवार को सतना में जय किसान फसल ऋण माफी योजना के दूसरे चरण में जिले के 1134 किसानों को ऋण माफी के प्रमाण-पत्र देते हुए कहा कि मध्यप्रदेश में किसानों को समृद्ध बनाकर कृषि क्रांति लाएंगे। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने योजना के पहले चरण में 21 लाख किसानों की ऋण माफी का वचन पूरा किया है। अब किसानों को उनकी उपज का सही मूल्य दिलाने के लिऐ काम किया जा रहा है। श्री नाथ ने कहा कि प्रदेश की 70 प्रतिशत आबादी कृषि क्षेत्र से जुड़ी है। इसलिए सरकार कृषि के क्षेत्र को समृद्ध बनाने के लिए कृत-संकल्पित है।

मुख्यमंत्री कमल नाथ ने कहा कि राज्य सरकार युवाओं के भविष्य को सुरक्षित करने के लिए तेजी से प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा कि आज के नौजवान की सोच अलग है, वह इंटरनेट से जुड़ा है, काम चाहता है, व्यवसाय चाहता है। मुख्यमंत्री ने बताया कि प्रदेश में निवेश का वातावरण निर्मित हो गया है। प्रदेश में विभिन्न उद्योग लगाए जा रहे हैं, जिनमें नौजवानों को रोजगार सुनिश्चित होगा। श्री नाथ ने कहा कि युवाओं को रोजगार के अधिक से अधिक अवसर उपलब्ध कराकर मध्यप्रदेश इतिहास बनाएगा।

सभी जिलों के विकास को प्राथमिकता

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के सभी जिलों के विकास को प्राथमिकता दी जा रही है। जिलों में सर्वहारा वर्ग के हितों को ध्यान में रखकर योजनाएं और कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम में 129.51 करोड़ लागत के 62 विकास एवं निर्माण कार्यों का लोकार्पण और भूमि-पूजन किया। कार्यक्रम में दुलारी बाई, राम लखन, सियासरण सुराखी, दुर्गेश यादव, कलावती, संतोष डोहर आदि को शहरी आवास योजना के पट्टे वितरित किए गए। सांसद विवेक तन्खा ने कहा कि प्रदेश के विकास को नई दिशा देने के लिए मुख्यमंत्री ने शुद्ध के लिए युद्ध और भू-माफिया के खिलाफ सख्त कार्रवाई का संदेश देकर जनहित और विकास को नई दिशा दी है। सतना जिले के प्रभारी अनुसूचित जाति कल्याण मंत्री लखन घनघोरिया ने जिले में क्रियान्वित योजनाओं की जानकारी दी। पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री कमलेश्वर पटेल ने लोगों से विकास में सहभागी बनने का आह्वान किया। कार्यक्रम में विधानसभा उपाध्यक्ष सुश्री हिना कांवरे, राज्यसभा सदस्य राममणि पटेल, पूर्व मंत्री पुष्पराज सिंह, राजेंद्र सिंह, सईद अहमद, यादवेंद्र सिंह, राहुल सिंह, विधायक सिद्धार्थ कुशवाहा समेत अन्य जन-प्रतिनिधि तथा बड़ी संख्या में आमजन उपस्थित थे।